लाइव टीवी

जांच रिपोर्ट: बाहरी छात्रों की साजिश थी NIT में तनाव, मंगवाया था तिरंगा!

पवन शर्मा
Updated: April 26, 2016, 4:53 PM IST
जांच रिपोर्ट: बाहरी छात्रों की साजिश थी NIT में तनाव, मंगवाया था तिरंगा!

एनआईटी श्रीनगर में मार्च में हुए तनाव के बाद जांच कमेटी ने रिपोर्ट सौंप दी है। रिपोर्ट में बाहरी राज्यों के छात्रों को हिंसा का जिम्मेदार माना है तो वही....

  • Last Updated: April 26, 2016, 4:53 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर। एनआईटी श्रीनगर में मार्च में हुए तनाव के बाद जांच कमेटी ने रिपोर्ट सौंप दी है। रिपोर्ट में बाहरी राज्यों के छात्रों को हिंसा का जिम्मेदार माना है तो वही इस मुद्दे को लोकसभा मे भी उठाया गया। केंद्र ने छात्रों की सुरक्षा की बात कही है।

कश्मीर में एनआईटी छात्रों पर हुए लाठीचार्ज और तनाव के चलते बनाई गई जांच कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। रिपोर्ट में बाहरी राज्यों के छात्रों को जिम्मेदार ठहराया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि एक सोची समझी साजिश के तहत ये सब कुछ हुआ। वहीं छात्रों ने आज जम्मू मे इसके खिलाफ जमकर प्रदर्शन भी किया।

क्या है रिपोर्ट में

1.गैर कश्मीरी छात्रों ने तोड़फोड़ की और संपति को नुकसान पहुंचाया है। 2.कैंपस में तनाव की योजना31 मार्च से पहले बनाई गई थी। 3.एनआईटी के कुछ छात्र जो कि बाहरी राज्यों के हैं उन्होंने बाहरी राज्य से ही तिरंगा मंगवाया था। 4.भारत वेस्टइंडीज मैच के दौरान बाहरी राज्यों के छात्रों ने स्थानीय छात्रों को उकसाया और फिर तनाव उत्पन्न हो गया। 5. स्थानीय कश्मीरी छात्रों ने बाद में हरे झंडे फहराए जो एनआईटी कैंपस के बाहर से लाए गए।

इस रिपोर्ट को खारिज करते हुए छात्रों का कहना है कि ये रिपोर्ट मुद्दा भटकाने के लिए है। हम वहा पर पढ़ने गए थे न कि उकसाने। बाहरी छात्रों पर इल्जाम गलत है, ये सरकार की साजिश है। छात्रों का भविष्य खराब करने की चाल है हम ऐसा नही होने देंगे।

वही इस मुद्दे को विपक्ष ने लोकसभा में उठाया और जमकर हंगामा भी किया। लेकिन सरकार ने अपने जबाव में साफ कहा कि छात्रों की सुरक्षा के लिए कदम उठाए गए हैं और एनआईटी के लिए छात्रों की परीक्षा अब मई में होगी। माहौल अब ठीक है। छात्र घर चले गए थे, अब परीक्षा देने जाएं।

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 26, 2016, 4:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर