महाराष्ट्र: टीआरपी से छेड़छाड़ करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, बार्क ने कहा-जांच में पुलिस का सहयोग करेंगे

मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने फ्रॉड टीआरपी रैकेट का भंडाफोड़ किया है (फाइल फोटो)
मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने फ्रॉड टीआरपी रैकेट का भंडाफोड़ किया है (फाइल फोटो)

Republic TV TRP fraud: राष्ट्रीय टीवी चैनल रिपब्लिक के प्रधान संपादक की ओर से आए वक्तव्य मे आरोप लगाया गया है कि मुंबई पुलिस ने उनके विरुद्ध गलत दावे किए हैं क्योंकि उनके चैनल ने सुशांत सिंह राजपूत के मामले की जांच में पुलिस पर सवाल खड़े किए थे.

  • Share this:
मुंबई. मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने ‘टेलीविजन रेटिंग पॉइंट’ (Telivision Rating Point) से छेड़छाड़ करने वाले एक गिरोह का गुरुवार को पर्दाफाश किया और कहा कि इस मामले के संबंध में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है. टीआरपी (TRP) के आधार पर यह फैसला किया जाता है कि कौन सा टीवी कार्यक्रम सबसे ज्यादा देखा गया. यह दर्शकों की पसंद और किसी चैनल की लोकप्रियता भी इंगित करती है.

मुंबई पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह (Mumbai Police Commisioner Parambir Singh) ने संवाददाताओं से कहा कि एक राष्ट्रीय टीवी चैनल रिपब्लिक टीवी (National Channel Republic TV) भी टीआरपी गिरोह में शामिल है. इस चैनल द्वारा सुशांत सिंह राजपूत के मामले (Sushant Singh Rajput Death Case) में मुंबई पुलिस (Mumbai Police) और महाराष्ट्र सरकार (Maharshtra Govenment) की आलोचना की गई थी.

टीआरपी गिरोह का पर्दाफाश करने वाली मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने दो मराठी चैनलों के मालिकों को दर्शकों की संख्या की रेटिंग से छेड़छाड़ करने के लिए गिरफ्तार किया है. पुलिस आयुक्त ने कहा कि टीआरपी गिरोह में एक राष्ट्रीय समाचार चैनल भी शामिल है और इसके लिए जिम्मेदार लोगों को भी गिरफ्तार किया जाएगा चाहे वह निदेशक, प्रवर्तक हो या चैनल का कोई अन्य कर्मचारी.



ये भी पढ़ें- रिपब्लिक टीवी ने पैसे देकर खरीदी TRP, 2 अन्य न्यूज चैनलों का भी नाम : मुंबई पुलिस
चैनल की ओर से दिए गए एक वक्तव्य में सिंह के दावों को खारिज किया गया है.

चैनल के बैंक खातों की भी की जा रही जांच
सिंह ने कहा कि इन चैनलों के बैंक खातों की जांच भी की जा रही है और टीआरपी गिरोह के लिए जिम्मेदार लोगों को पुलिस पूछताछ के लिए तलब कर रही है. उन्होंने कहा, “विज्ञापन देने वाले इन टीआरपी रेटिंग के आधार पर इन चैनलों पर विज्ञापन प्रसारित करने के लिए पैसे देते थे और यह खेल हजारों करोड़ रुपये का है.” उन्होंने कहा कि छेड़छाड़ की हुई टीआरपी रेटिंग से विज्ञापन देने वालों को दर्शकों की गलत संख्या बताई जाती थी.

सिंह ने कहा कि इस प्रकार टीआरपी के गलत आंकड़े दिखाकर सैकड़ों करोड़ रुपये का चूना लगाया जा रहा था.

कुछ घरों के गोपनीय समूह में टीवी चैनल देखे जाने के आधार पर टीआरपी की गणना की जाती है.

इस तरह काम करता था गिरोह
सिंह ने कहा कि गिरोह में शामिल लोग इन घरों के लोगों को घूस देकर उनसे कहते थे कि वे टीवी पर कुछ चैनल चलाकर छोड़ दें, भले ही वह उसे देख न रहे हों. उन्होंने कहा कि ब्रॉडकास्ट ऑडिएंस रिसर्च कॉउंसिल (बीएआरसी) भारत में टीवी चैनलों के लिए साप्ताहिक रेटिंग जारी करता है और इस मामले के संबंध में उनके अधिकारियों से भी पूछताछ की जा रही है. उन्होंने कहा कि टीआरपी को मापने के लिए मुंबई में दो हजार मापक इकाई स्थापित हैं.

ये भी पढ़ें- IMA को नई गाइडलाइन पर आपत्ति, स्वास्थ्य मंत्री से पूछा-AYUSH मंत्रालय को क्यों नहीं सौंप दी जाती कोरोना की जिम्मेदारी?

सिंह ने कहा कि बीएआरसी ने ‘हंसा’ नामक एजेंसी को इन इकाइयों पर नजर रखने का ठेका दिया था. पुलिस आयुक्त ने कहा कि दोनों चैनल के मालिकों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया गया और वे मुंबई पुलिस की हिरासत में हैं. उन्होंने कहा कि दोनों आरोपियों को भारतीय दंड संहिता की धारा 409 और 420 के तहत गिरफ्तार किया गया है. सिंह ने कहा, “हमें शक है कि यदि यह मुंबई में हो सकता है तो देश के अन्य भागों में भी हो सकता है.”

बीएआरसी, टीवी के दर्शकों की संख्या बताने के लिए सटीक, विश्वसनीय और समयबद्ध प्रणाली के गठन और निगरानी का काम करता है और भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण के दिशा निर्देशों से बंधा होता है.

पूर्व अधिकारी कर रहे थे घोटाला
सिंह ने कहा कि हंसा ने टीआरपी गिरोह के विरुद्ध एक शिकायत दर्ज की जिसके बाद मामला दर्ज किया गया. उन्होंने कहा, “जांच के दौरान पाया गया कि एजेंसी के कुछ पूर्व कर्मचारी कुछ टेलीविजन कंपनियों को आकंड़े उपलब्ध कराने के खेल में शामिल थे.” उन्होंने कहा कि जिन लोगों के घरों पर इकाइयां लगीं थीं उनमें से बहुत से लोगों ने यह स्वीकार किया है कि उन्हें अपने टीवी ऑन रखने के लिए पैसे दिए गए थे.

ये भी पढ़ें- TRP रैकेट: 2 चैनल मालिक हिरासत में, पुलिस चीफ बोले-कोई भी हो, छोड़ेंगे नहीं

रिपब्लिक की ओर से दिया गया ये जवाब
राष्ट्रीय टीवी चैनल रिपब्लिक के प्रधान संपादक की ओर से आए वक्तव्य मे आरोप लगाया गया है कि मुंबई पुलिस ने उनके विरुद्ध गलत दावे किए हैं क्योंकि उनके चैनल ने सुशांत सिंह राजपूत के मामले की जांच में पुलिस पर सवाल खड़े किए थे.

चैनल ने कहा है कि वह मुंबई पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह के विरुद्ध आपराधिक मानहानि का मुकदमा करेगा. चैनल ने कहा कि सिंह को माफी मांगनी चाहिए और अदालत में मुकदमे का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज