अपना शहर चुनें

States

26 जनवरी को राजपथ पर खास चश्मे में दिखेंगे CRPF जवान, ओसामा को मारने वाले मिशन में हुआ था इस्तेमाल

सीआरपीएफ के जवान पहने दिखेंगे विशेष चश्मे. (तस्वीर -ANI)
सीआरपीएफ के जवान पहने दिखेंगे विशेष चश्मे. (तस्वीर -ANI)

ये वही चश्मा है जिसे पहनकर अमेरिकी सील कमांडोज़ (American SEAL Commando) ने वैश्विक आतंकी ओसामा बिन लादेन (Osama Bin Laden) को मार गिराया था. एएनआई पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा पहली बार होगा जब सीआरपीएफ अपनी चौकी के साथ किसी युद्धक गैजेट को प्रदर्शित करेगी. इस चश्मे को किंग ऑफ नाइट विज़न के नाम से भी जाना जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2021, 9:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) इस साल गणतंत्र दिवस पर अपनी चौकी में नाइट विजन गॉगल्स (Night Vision Goggles) का प्रदर्शन करेगी. ये वही चश्मा है जिसे पहनकर अमेरिकी सील कमांडोज़ ने वैश्विक आतंकी ओसामा बिन लादेन को मार गिराया था. एएनआई पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा पहली बार होगा जब सीआरपीएफ अपनी चौकी के साथ किसी युद्धक गैजेट को प्रदर्शित करेगी. इस चश्मे को किंग ऑफ नाइट विज़न के नाम से भी जाना जाता है.

सीआरपीएफ की चौकी के साथ विशेष चश्मे पहने दिखेंगे सीआरपीएफ के कमांडो
राजपथ पर मार्च करते हुए सीआरपीएफ के कमांडो इस चश्मे के साथ नजर आएंगे. विशेष रूप से रात के लिए बनाए गए ये चश्मे कमांडोज़ को 120 डिग्री का विज़न देते हैं. ये ठीक वैसा ही है जैसे आप दिन में अपनी आंखों से कोई चीज देख रहे हों. ये बेहद हल्के होते हैं और नाइट ऑपरेशन्स के दौरान पहनने में बेहद आरामदायक होते हैं.


दुनिया की कई सेनाएं इस चश्मे का इस्तेमाल करती हैं


सीआरपीएफ के एक अधिकारी के मुताबिक दुनिया की कई सेनाएं इस चश्मे का इस्तेमाल करती हैं जिनमें अमेरिकी मिलिट्री भी शामिल है. ये चश्मे कमांडोज़ को रात में अपना टारगेट आसानी से ढूंढने में बहुत मददगार साबित होते हैं. हालांकि अधिकारी ने यह भी साफ किया कि ये चश्में बिल्कुल वैसे नहीं हैं जैसे अमेरिकी नेवी सील इस्तेमाल करते हैं.

पूर्व यूएस SEAL चीफ  वॉरफेयर ऑपरेटर मैट बिसोनेट ने अपनी किताब 'नो इज़ी डे' में इस चश्मे के विज़न का जिक्र किया है. उनके मुताबिक ओसामा को मारने वाले मिशन के दौरान हर जवान के लिए 65 हजार डॉलर के फोर ट्यूब नाइट विजन चश्मे मुहैया कराए गए थे. बिसोनेट ने कहा है कि चश्मे की बदौलत ओसामा को ढूंढने में बहुत आसानी हुई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज