गणतंत्र दिवस: महिला फाइटर पायलट से लेकर मास्क में सैन्य परेड- इस बार अलग दिखेंगे नज़ारे

भारतीय सेना हमेशा की तरह इस बार भी अपनी ताकत दिखाएगी (फोटो- AP)

Republic Day: इस बार के परेड में एयरफोर्स के 42 एयरक्राफट हिस्सा लेंगे, लेकिन हर किसी की निगाहें राफेल पर टिकी रहेंगी. राफेल के साथ-साथ मिग-29 फाइटर राजपथ पर अपने कारनामे दिखाएंगे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर राजपथ पर भारतीय सेना हमेशा की तरह इस बार भी अपनी ताकत दिखाएगी, लेकिन इस बार का ये कार्यक्रम थोड़ा अलग होगा. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के चलते इस बार हमारे सैनिक परेड के दौरान मास्क में नजर आएंगे. साथ ही इस बार परेड में कोई चीफ गेस्ट नहीं होगा, लेकिन हर किसी की निगाहें इस बार राफेल फाइटर जेट्स पर टिकी रहेंगी.

    इसके अलावा 26 जनवरी के परेड में आर्मी की एंटी एयरक्राफ्ट गन (Aircraft Gun Schilka) अपग्रेडेड शिल्का भी दिखाई देगी. पहली बार राजपथ पर परेड का हिस्सा बनाने के लिए शिल्का को अपग्रेड किया गया है. इसकी कमांडिंग ऑफिसर कैप्टन प्रीति चौधरी होंगी. आईए एक नजर डालते हैं कि कि परेड में और क्या खास होगा.

    महिला फाइटर पायलट
    गणतंत्र दिवस का परेड इस बार बिहार की भावना कंठ देश की पहली महिला फाइटर पायलट के तौर पर परेड में शमिल होंगी.  साल 2018 में एयरफोर्स की पहली महिला फाइटर पायलट्स के रूप में उनकी तैनात हुईं थी. भावना कंठ फिलहाल लाइट कोमबैट हेलीकॉप्टर सुकोई-30 उड़ाती हैं.


    राफेल का जलवा
    इस बार के परेड में एयरफोर्स के 42 एयरक्राफट हिस्सा लेंगे. लेकिन हर किसी की निगाहें राफेल पर टिकी रहेंगी. राफेल के साथ-साथ मिग-29 फाइटर राजपथ पर अपने कारनामे दिखाएंगे. पिछले साल सितंबर में फ्रांस से इसे खरीदा गया था.  फ्लाईपास्ट का समापन राफेल के ‘वर्टिकल चार्ली फार्मेशन’ में उड़ान भरने से होगा. ‘वर्टिकल चार्ली फार्मेशन’ में विमान कम ऊंचाई पर उड़ान भरता है, सीधे ऊपर जाता है और उसके बाद कलाबाजी खाते हुए एक ऊंचाई पर स्थिर हो जाता है.

    बांग्लादेश सशस्त्र बल
    इस साल गणतंत्र दिवस में पहली बार बांग्लादेश सशस्त्र बलों की एक टुकड़ी भाग लेने वाली है. इसमें 122 सैनिक होंगे. ये सिर्फ तीसरा मौका है जब विदेश के सैनिक को परेड के लिए बुलाया गया है. इससे पहले फ्रांस 2016 और यूएई 2017 के सैनिकों ने परेड में भाग लिया था.

    नौसेना की झांकी
    गणतंत्र दिवस की परेड में नौसेना की झांकी में ‘आईएनएस विक्रांत’ का मॉडल और 1971 में बांग्लादेश की मुक्ति के लिए पाकिस्तान के साथ हुई भारत की लड़ाई के नौसैन्य अभियानों की झलक दिखाई देगी. नौसेना के प्रवक्ता कमांडर विवेक मढवाल ने कहा कि परेड में इस साल की झांकी सेना के तीनों अंगों से संबंधित विषय ‘स्वर्णिम विजय वर्ष’ के अनुरूप निकाली जाएगी और इसमें 1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान भारतीय नौसेना द्वारा निभाई गई शानदार भूमिका दिखाई जाएगी.

    ये भी पढ़ें:- वेंकैया नायडू ने कहा, राष्ट्रवाद का मतलब केवल 'जन गण मन’ गाना ही नहीं है

    दर्शकों की संख्या में कटौती
    इस बार गणतंत्र दिवस में काफी कम लोगों को परेड देखने का मौका मिलेगा. सिर्फ 25 हजार लोगों को ही आने की अनुमति दी गई है. जबकि पिछले साल करीब डेढ़ लाख दर्शक थे. इस बार 15 साल के कम उम्र के बच्चों को एंट्री नहीं मिलेगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.