आर्टिकल 370: क्यों कल का दिन घाटी में सेना के लिए है मुश्किल?

जम्मू और कश्मीर (Jammu And Kashmir) में अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35 ए (Article 370 and 35a) हटने के बाद लाइन ऑफ कंट्रोल यानी LoC पर भी पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ की कोशिश भी की गई.

News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 6:53 PM IST
आर्टिकल 370: क्यों कल का दिन घाटी में सेना के लिए है मुश्किल?
जम्मू और कश्मीर में अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35 ए हटने के बाद लाइन ऑफ कंट्रोल यानी LoC पर भी पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ की कोशिश भी की गई. (PTI Photo)(PTI8_8_2019_000021B)
News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 6:53 PM IST
जम्मू और कश्मीर  (Jammu And Kashmir) में अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35 ए  (Article 370 and 35a) हटाने जाने के बाद शुक्रवार को राज्य में सुरक्षाबलों (Scurity Force) का बड़ा इम्तिहान है. बता दें कि शुक्रवार को जुमे की नमाज के लिए धारा 144 में कुछ देर के लिए ढील दी जाएगी. ऐसे में सुरक्षाबलों को कड़े इम्तिहान से गुजरना होगा.

वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जहां उत्तरी कश्मीर में पांच और दक्षिण कश्मीर में दो पत्थरबाजी की घटनाएं दर्ज की गईं. वहीं पाकिस्तान की ओर से रह-रह कर सीजफायर का उल्लंघन भी हो रहा है. सूत्रों के मुताबिक 13 जुलाई से अब तक पाकिस्तान ने सात बार सीजफायर का उल्लंघन किया.

वहीं लाइन ऑफ कंट्रोल यानी LoC पर भी पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ की कोशिश भी की गई. सूत्रों के अनुसार राज्य में उन इलाकों की पहचान की गई है, जहां किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति का सामना करना पड़ सकता है. इसमें शोपियां, पुलवामा, अनंतनाग और सोपोर शामिल हैं. बताया गया कि राज्य के कई अंदरूनी और सुदूर इलाकों में दुकानें दोपहर और शाम को खुल रही हैं.

यह भी पढ़ें:  समझौता एक्सप्रेस की बोगियों का अब ये करेगा पाकिस्तान

कई लोग हिरासत में लिए गए
वहीं अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने के कदम के विरोध में रैली निकालने के मामले में कई लोगों को हिरासत में ले लिया गया है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. करीब 300 लोगों ने ज्वांइट एक्शन कमेटी के बैनर तले आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत लगी रोक को तोड़ते हुए एक रैली निकाली थी.

पीटीआई के अनुसार अधिकारियों ने बताया कि इनमें से कुछ लोगों को पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हुई मामूली तनातनी के बाद हिरासत में ले लिया गया. पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व मंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता कमर अली अखून ने कहा, 'हम अखंड राज्य चाहते हैं. जम्मू, लद्दाख और कश्मीर को एक इकाई होना चाहिए. हम अनुच्छेद 370 की वापसी की लड़ाई लड़ रहे हैं.'
Loading...

कांग्रेस की जिला इकाई के अध्यक्ष नसीर हुसैन मुंशी ने कहा कि केंद्र सरकार ने 'हमारे मूलभूत अधिकारों का उल्लंघन किया है.' उन्होंने कहा, 'वे हमारी अभिव्यक्ति के अधिकार का उल्लंघन कर रहे हैं. आज हमने अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के खिलाफ एक शांतिपूर्ण रैली निकालने की कोशिश की, लेकिन हमें रैली निकालने से रोक दिया गया.'

यह भी पढ़ें: अब UAE ने जारी की अपने नागरिकों के लिए ट्रैवल एडवाइजरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 5:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...