पंजाब में 10 जून तक बढ़ाई गई लॉकडाउन जैसी पाबंदियां लेकिन यहां मिलेगी ढील

पंजाब में कोरोना संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन जैसी पाबंदियाों को 10 जून तक के लिए बढ़ा दिया गया है.

पंजाब में कोरोना संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन जैसी पाबंदियाों को 10 जून तक के लिए बढ़ा दिया गया है.

Punjab Lockdown: मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कोरोना की स्थिति में लगातार हो रहे सुधार को देखते हुए सरकारी और निजी दोनों अस्पतालों में वैकल्पिक सर्जरी को फिर से शुरू करने के साथ ही राज्य के सभी जीएमसीएच में ओपीडी संचालन को बहाल करने का भी निर्देश दिया है.

  • Share this:

चंडीगढ़. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh) ने गुरुवार को राज्य में पाबंदियों को 10 जून तक बढ़ाने की घोषणा की है. जबकि कोविड (Covid) के मामलों में गिरावट को देखते हुए निजी वाहनों (Private vehicles) में यात्रियों की संख्या की सीमा को हटाने का आदेश दिया.

उन्होंने कोविड की समग्र स्थिति में सुधार को देखते हुए सरकारी और निजी दोनों अस्पतालों में वैकल्पिक सर्जरी (elective surgeries) को फिर से शुरू करने के साथ ही राज्य के सभी जीएमसीएच में ओपीडी संचालन (OPD operations) को बहाल करने का भी निर्देश दिया है.

Youtube Video

पहले 12 अप्रैल तक लगाई थी सर्जरी पर रोक
गौरतलब है कि गंभीर कोविड मामलों के लिए बिस्तरों और ऑक्सीजन (Oxygen) की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए 12 अप्रैल से वैकल्पिक सर्जरी रोक दी गई थी, लेकिन मुख्यमंत्री ने अब इन्हें फिर से शुरू करने की अनुमति दी है.

चिकित्सा शिक्षा मंत्री ओपी सोनी (Medical Education Minister OP Soni) ने कहा कि तीन जीएमसी ने पहले ही 50% ओपीडी संचालन शुरू कर दिया है, जिसे जल्द ही 100% तक बढ़ाया जाएगा. प्रतिबंधों के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि विशेषज्ञों की सलाह पर प्रतिबंधों को जारी रखने का निर्णय लिया गया है. उन्होंने स्पष्ट किया कि निजी कारों और दोपहिया वाहनों की सीमा को हटाया जा रहा है क्योंकि इनका उपयोग मुख्य रूप से परिवार के सदस्यों और करीबी दोस्तों द्वारा किया जाता है.

ये भी पढ़ेंः- ब्लैक और व्हाइट फंगस के बाद अब Cream Fungus, जबलपुर से सामने आया पहला केस




वाणिज्यिक यात्री वाहनों और टैक्सियों पर प्रतिबंध वर्तमान में जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि गैर-जरूरी दुकानों को खोलने में कोई भी समायोजन करने के लिए डीसी को भी अधिकार दिया जाएगा. मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभागों को महामारी की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए कोविड देखभाल बुनियादी ढांचे और सुविधाओं को मजबूत करना जारी रखने का निर्देश दिया. उन्होंने बाल चिकित्सा देखभाल बढ़ाने और भारत सरकार से 500 बाल चिकित्सा वेंटिलेटर लेने के लिए भी निवेश करने के लिए कहा है. कुछ निजी अस्पतालों द्वारा अधिक कीमत वसूलने पर कड़ा संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री ने चेतावनी दी कि इस तरह के संकट के बीच मरीजों की मुनाफाखोरी और पलायन किसी भी कीमत पर नहीं होने दिया जाएगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज