लाइव टीवी
Elec-widget

CJI एसए बोबडे की पहली चुनौती होगी सुप्रीम कोर्ट की साख को फिर मजबूत करना

News18Hindi
Updated: November 18, 2019, 11:58 AM IST
CJI एसए बोबडे की पहली चुनौती होगी सुप्रीम कोर्ट की साख को फिर मजबूत करना
सीजेआई एसए बोबडे पेपर वर्क के साथ ही न्‍याय व्‍यवस्‍था में आधुनिक तकनीक के इस्‍तेमाल पर भी विश्‍वास रखते हैं.

जस्टिस एसए बोबडे (Justice SA Bobde) ने सुप्रीम कोर्ट के 47वें मुख्‍य न्‍यायाधीश के तौर पर शपथ ली है. सीजेआई बोबडे (CJI Bobde) ने शपथ लेने के बाद CNN-News18 से बताचीत में भरोसा दिलाया कि वह न सिर्फ मौजूदा चुनौती को निपटाएंगे, बल्कि अपने कार्यकाल में भविष्‍य के लिए एक बेहतर सिस्‍टम बनाने को शीर्ष अदालत (Supreme Court) में एक तंत्र (Mechanism) तैयार करने का प्रयास करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2019, 11:58 AM IST
  • Share this:
उत्‍कर्ष आनंद

नई दिल्‍ली. सुप्रीम कोर्ट को अब एक ऐसा मुख्‍य न्‍यायाधीश (CJI) मिला है, जो परंपरागत कोर्टरूम स्‍ट्रक्‍चर से इतर आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (AI), सोशल मीडिया और आधुनिक तकनीक के बारे में बात करता है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के 47वें मुख्‍य न्‍यायाधीश एसए बोबडे (CJI SA Bobde) फोटोग्राफी और मोटर बाइक्‍स में भी काफी रुचि लेते हैं. रिटायर्ड सीजेआई रंजन गोगोई की जगह लेने वाले जस्टिस बोबडे एक व्‍यक्ति के तौर पर 'सिर्फ काम, कोई खेल नहीं' की धारणा को खारिज करते हैं. जस्टिस बोबडे को राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने आज सुबह पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई.

मुंबई बार से सीजेआई बनने वाले आठवें जज हैं जस्टिस बोबडे
जस्टिस बोबडे सुप्रीम कोर्ट के न्‍यायाधीश बनने वाले मुंबई बार (Mumbai Bar) के आठवें जज हैं. सीजेआई बोबडे जहां पेपर वर्क (Paper Work) पर भरोसा करते हैं, वहीं न्‍याय व्‍यवस्‍था (Judiciary) में आधुनिक तकनीक (Modern Technology) के इस्‍तेमाल पर भी विश्‍वास रखते हैं. राष्‍ट्रपति की ओर से सुप्रीम कोर्ट के सीजेआई के तौर पर नियुक्ति अधिसूचित (Presidential Notification) होने के बाद CNN-News18 से बात करते हुए सीजेआई बोबडे ने कहा, 'मैं न सिर्फ मौजूदा चुनौती को निपटाऊंगा, बल्कि अपने कार्यकाल में भविष्‍य के लिए एक बेहतर सिस्‍टम बनाने को शीर्ष अदालत में एक तंत्र (Mechanism) तैयार करने का प्रयास भी करूंगा.'

विवादित मामलों पर मीडिया के सामने कभी नहीं अपनी राय
जस्टिस एसए बोबडे के कार्यकाल के दौरान सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में सबसे बड़े विवाद (Controversies) खड़े हुए. इस साल की शुरुआत में चार वरिष्‍ठ जजों ने तत्‍कालीन सीजेआई दीपक मिश्रा (Rtrd. CJI Deepak Misra) के कुछ फैसलों के खिलाफ प्रेस कांफ्रेंस की, जो सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में पहली हुआ. पहली बार सुप्रीम कोर्ट के जजों ने प्रेस कांफ्रेंस कर आम लोगों के सामने अपनी बात रखी. इसके बाद सेवानिवृत्‍त सीजेआई रंजन गोगोई के खिलाफ यौन उत्‍पीड़न (Sexual Harassment) का मामला भी इसी साल उछला. जस्टिस बोबडे ने कभी इन विवादित मामलों पर मीडिया के सामने कोई राय नहीं रखी. हालांकि, जस्टिस बोबडे जस्टिस गोगोई को क्‍लीनचिट देने वाली तीन जजों की समिति (Panel) के अध्‍यक्ष थे.

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज सुबह जस्टिस एसए बोबडे को सीजेआई के तौर पर पद व गोपनीयता की शपथ दिलााई. सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस बोबडे के कार्यकाल के दौरान कई बड़े विवाद भी खड़े हुए थे.

Loading...

'संवैधानिक संस्‍था के हित में कोई फैसला लेने में झिझक नहीं'
जस्टिस बोबडे ने समिति की अध्‍यक्षता करने पर कहा था कि उन्‍हें संवैधानिक संस्था और आम लोगों के हित को ध्‍यान में रखते हुए कोई भी फैसला लेने में झिझक नहीं है. अयोध्‍या जमीन विवाद मामले (Ayodhya Land Dispute Case) की सुनवाई करने वाली पांच सदस्‍यीय संविधान पीठ में शामिल होकर जस्टिस बोबडे ने अपनी संकल्पशीलता का एक और उदाहरण पेश किया, जबकि वह जानते थे कि इसे सुलझाना आसान नहीं होगा. इसके अलाव वह उस पीठ में भी शामिल रहे, जो केंद्र सरकार के आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण (Quota to Economically Weaker Sections) देने के मामले की सुनवाई कर रही थी. जस्टिस बोबडे अब आगे के मामलों को निपटाने के लिए तैयार नजर आ रहे हैं. उम्‍मीद है कि तमाम विवादों के बाद नए सीजेआई सुप्रीम कोर्ट की साख को फिर मजबूत करने की चुनौती से भी बखूबी निपटेंगे.

ये भी पढ़ें: जस्टिस शरद अरविंद बोबडे बने CJI, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिलाई शपथ

नागरिकता बिल पर फिर बवाल, नॉर्थ-ईस्ट में बढ़ सकती है BJP की मुश्किल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 11:42 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com