लाइव टीवी

2050 तक समुद्र में इतनी डूब जाएगी मुंबई, पहली बार सामने आई सैटेलाइट इमेज

News18Hindi
Updated: October 30, 2019, 12:49 PM IST
2050 तक समुद्र में इतनी डूब जाएगी मुंबई, पहली बार सामने आई सैटेलाइट इमेज
एक नई रिचर्स के मुताबिक 2050 में मुंबई के आसपास समुद्र का जलस्तर खतरनाक स्थिति में होगा.

2050 तक समुद्र का जलस्तर कितना बढ़ सकता है और कितना एरिया इससे प्रभावित होगा, इसको लेकर एक रिसर्च हुई है. इस बार की रिसर्च सैटेलाइट पर आधारित है और दावा किया जा रहा है कि ये अब तक की सबसे सटीक रिसर्च है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2019, 12:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. समुद्र का जलस्तर (Sea level) कितनी तेजी से बढ़ रहा है और 2050 तक यह दुनिया के कितने शहरों को प्रभावित करेगा इसको लेकर एक नई रिसर्च सामने आई है. इस रिसर्च के मुताबिक, जलस्तर बढ़ने से दुनिया भर में 15 करोड़ लोग प्रभावित होंगे और इनके पास रहने के लिए घर नहीं बचेगा. कई शहर तो ऐसे हैं, जिनके तट पूरी तरह पानी में समा जाएंगे. रिसर्च करने वाले वैज्ञानिकों का दावा है कि इस बार सैटेलाइट की मदद से ये आकलन किया गया है, जो बेहद सटीक है. यहां तक कि अब तक जितनी भी रिसर्च समुद्र के बढ़ते जलस्तर को लेकर हुई हैं, यह उस सबमें एक्यूरेट है. ये रिसर्च न्यू जर्सी स्थिति साइंस ऑर्गनाइजेशन क्लाइमेंट सेंटर ने जारी की है और प्रतिष्ठित जरनल नेचर कम्युनिकेशन में इसे प्रकाशित किया गया है.

डूब जाएगी मुंबई
नई रिसर्च में भारत की आर्थिक राजधानी के बारे में कहा गया है कि शहर के कई मुख्य हिस्सों का सफाया हो जाएगा. बढ़ते जलस्तर की चपेट में आने से कई इलाके पानी में डूब जाएंगे. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काम करने वाली एक माइग्रेशन संस्था के कॉर्डिनेटर डायना लोनेस्को के कहना है कि भारत को अभी से लोगों को रीलोकेट करने का प्लान तैयार करना चाहिए.

रिचर्स में इन सेटेलाइट इमेज का उपयोग किया गया है. इसमें देखा जा सकता है कि 2050 तक शहर का कितना हिस्सा पानी की जद में आ सकता है. (साभार-न्यूयॉर्क टाइम्स)


शंघाई पर संकट
एशिया के सबसे बड़े ग्रोथ इंजन शंघाई के भी पानी में समा जाने का खतरा है. इस शहर के आसपास के भी शहर पानी में डूब सकते हैं. ताजा रिसर्च में कहा गया है कि 11 करोड़ ऐसे हैं जो पहले से ही हाई टाइड की जद में आने वाली जगहों पर रह रहे हैं. रिसर्च से जुड़े स्ट्रॉस ने कहा कि शंघाई में इसी तरह से निवेश होता रहा तो लोगों को बचाना मुश्किल होगा. उन्होंने न्यू ऑरलिएंस का उदाहरण देते हुए कहा कि कैसे साल 2005 के कैटरीना तूफान में यह द्वीप पूरी तरह बर्बाद हो गया था. स्ट्रॉस ने कहा कि ये हमें तय करना है कि हम कितनी गहराई में रहना चाहते हैं?

शंघाई चीन का प्रमुख व्यापारिक शहर है. सेटेलाइट इमेज के जरिए आप देख सकते हैं कि 2050 में शहर का क्या हाल हो सकता है. (सभार: न्यूयॉर्क टाइम्स)

Loading...

लुप्त हो जाएगा अलेक्जेंड्रिया
मिश्रा का अलेक्जेंड्रिया भी 2050 तक पानी में डूबने के कगार पर है. सिकंदर महान ने जिस शहर को बसाया था वहां की सांस्कृतिक विरासत का लुप्त होना बड़ी तबाही ला सकता है. इराक में दूसरा सबसे बड़ा शहर बसरा 2050 तक ज्यादातर पानी के नीचे हो सकता है. अगर ऐसा होता है तो इसका प्रभाव पूरे ईराक पर होगा.

इजिप्ट के शहर अलेक्जेंड्रिया को लेकर भी इसी तरह की रिसर्च हुई है.


बसरा ईराक का प्रमुख शहर है, जो समुद्र के बढ़ते जल स्तर की चपेट में आएगा.


2050 में समुद्र के बढ़ते जलस्तर के कारण वियतनाम में कुछ ऐसी स्थिति हो सकती है.


इसी सेटेलाइट इमेज के जरिए आप बैंकॉक का हाल देख सकते हैं. अगर रिसर्च में किया हुआ दावा सही निकला तो 2050 में बैंकॉक बुरी तरह प्रभावित होगा.


(न्यूयॉर्क टाइम्स)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 12:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...