लाइव टीवी
Elec-widget

RJ Raunac के JNU Fee से जुड़े वीडियो को फेसबुक फैक्ट चेकर ने पाया Fake, कहा- सावधान, गलत जानकारी

News18Hindi
Updated: November 27, 2019, 6:07 PM IST
RJ Raunac के JNU Fee से जुड़े वीडियो को फेसबुक फैक्ट चेकर ने पाया Fake, कहा- सावधान, गलत जानकारी
JNU में फीस बढ़ोतरी का मुद्दा अभी खत्म नहीं हुआ है.

'बऊवा' के नाम से मशहूर रेडियो जॉकी रौनक (RJ Raunac) ने जेएनयू में फीस इजाफे (JNU Fee Hike) के मुद्दे पर एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसके बारे में फेसबुक के फैक्ट चेकर टीम ने कहा कि इसमें दी गई जानकारियां गलत हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 27, 2019, 6:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में फीस माफी का मुद्दा अभी खत्म नहीं हुआ है. परिसर में पढ़ाई करने वाले छात्र लगातार जेएनयू प्रशासन के फैसले का विरोध कर रहे हैं तो वहीं विश्वविद्यालय का कहना है कि उसने मामूली सुविधा शुल्क बढ़ाए हैं जो घाटे को कम करने के लिए जरूरी था.

दूसरी ओर इस मुद्दे पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जो 'बऊवा' के नाम से मशहूर रेडियो जॉकी रौनक का है. RJ Ranauc के फेसबुक से पोस्ट किया गया यह वीडियो खूब वायरल हुआ. वीडियो का टाइटल है- 'JNU फीस विवाद का पूरा सच.' हालांकि इस वीडियो के बारे में फेसबुक के फैक्ट चेकर ने कहा है कि इसमें गलत जानकारी दी गई है.

अपने मोबाइल ऐप पर फेसबुक ने वीडियो पर एक मैसेज लिखा है, जिसमें कहा गया है - 'सावधान, गलत जानकारी.' इंडिपेंडेंट फैक्ट चेकर्स ने इसकी जांच की है. 8 मिनट 41 सेकेंड के इस वीडियो में रौनक ने दावा किया है कि जेएनयू में बीते दिनों संशोधित की गई हॉस्टल फीस अभी भी आईआईटी और दिल्ली विश्वविद्यालय से कम है. हालांकि फैक्ट चेकर्स का दावा है कि रौनक की यह बात गलत है.

रौनक के यह तीन दावे गलत!

फैक्ट चेक में दावा किया गया है कि प्रस्तावित संशोधन के बाद, जेएनयू का वार्षिक छात्रावास शुल्क लगभग 61,000 रुपये से 66,000 रुपये हो जाएगा. दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्रों के लिए यह शुल्क 40,000 रुपये से 55,000 रुपये है. दावा किया गया है कि आरजे रौनक द्वारा किए गए दावों के ठीक उलट प्रस्तावित बढ़ोतरी जेएनयू को देश के सबसे महंगे केंद्रीय विश्वविद्यालयों में से एक बना देगी.

अपने वीडियो में आरजे रौनक ने दावा किया है कि दिल्ली यूनिवर्सिटी देश में शीर्ष रैंक वाला विश्वविद्यालय है, जबकि जेएनयू 12वें स्थान पर है. हालांकि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की रैंकिंग के अनुसार जेएनयू नंबर दो पर है, जबकि डीयू 13वें नंबर पर है.

आरजे रौनक ने अपने वीडियो में एक तस्वीर का उपयोग किया है कि जेएनयू की छात्राएं बाल बांधने के लिए कॉन्डम का इस्तेमाल करती हैं, जबकि यह एक फेक तस्वीर है, जिसके बारे में पहले भी कई फैक्ट चेकर्स ने स्पष्ट किया है.
Loading...

यह भी पढ़ें: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में आरक्षण लागू करवाएगी ABVP !

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 12:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com