लाइव टीवी
Elec-widget

अब भी देश में 13 लाख से ज्यादा घरों में बिजली नहीं, यूपी में बिना लाइट के सबसे ज्यादा घर

News18Hindi
Updated: November 21, 2019, 5:29 PM IST
अब भी देश में 13 लाख से ज्यादा घरों में बिजली नहीं, यूपी में बिना लाइट के सबसे ज्यादा घर
केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने कहा, ‘सात राज्यों ने 19,09,679 ऐसे घरों की सूचना दी जो पहले बिजली कनेक्शन नहीं लेना चाहते थे, लेकिन अब कनेक्शन चाहते हैं. अब इन घरों में बिजली पहुंचाई जा रही है.’

केंद्रीय मंत्री आरके सिंह (RK Singh) ने लोकसभा (Lok Sabha) में बताया कि 31 अक्टूबर 2019 तक जिन घरों में बिजली नहीं पहुंची उनकी संख्या 13,90,375 है. आरके सिंह (RK Singh) ने यह भी बताया कि सात राज्यों ने 19.09 लाख ऐसे घरों की सूचना दी, जो पहले बिजली कनेक्शन नहीं लेना चाहते थे, लेकिन अब कनेक्शन लेने को इच्छुक हैं और संबंधित राज्यों द्वारा इनका विद्युतीकरण किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 21, 2019, 5:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने गुरुवार को बताया कि अभी तक देश में 13,90,375 घरों में बिजली के कनेक्शन (electricity connection) नहीं हैं और उत्तर प्रदेश में ऐसे घरों की संख्या सर्वाधिक है. लोकसभा में रवीन्द्र कुशवाहा तथा विष्णुदयाल राम के प्रश्न के लिखित उत्तर में विद्युत तथा नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह (RK Singh) ने यह जानकारी दी. लोकसभा (Lok Sabha) में पेश आंकड़ों के अनुसार, 31 अक्टूबर 2019 तक जिन घरों में बिजली नहीं पहुंची उनकी संख्या 13,90,375 है. इनमें बिजली से वंचित सर्वाधिक घरों की संख्या उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में है.

आरके सिंह (RK Singh) ने यह भी बताया कि सात राज्यों ने 19.09 लाख ऐसे घरों की सूचना दी, जो पहले बिजली कनेक्शन नहीं लेना चाहते थे, लेकिन अब कनेक्शन लेने को इच्छुक हैं और संबंधित राज्यों द्वारा इनका विद्युतीकरण किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि राज्यों द्वारा दी गई सूचना के अनुसार, देश के सभी आवासित जनगणना गांवों का 28 अप्रैल 2018 की स्थिति के अनुसार विद्युतीकरण हो गया है. उन्होंने कहा, ‘31 मार्च 2019 तक की स्थिति के अनुसार, छत्तीसगढ़ के नक्सलवाद प्रभावित बस्तर क्षेत्र के कुछ घरों के अलावा सभी राज्यों ने सौभाग्य पोर्टल पर सभी इच्छुक घरों के विद्युतीकरण की सूचना दी है.’ सिंह ने कहा, ‘सात राज्यों ने 19,09,679 ऐसे घरों की सूचना दी जो पहले बिजली कनेक्शन नहीं लेना चाहते थे, लेकिन अब कनेक्शन लेने को इच्छुक हैं और संबंधित राज्यों द्वारा विद्युतीकरण किया जा रहा है.’

छत्तीसगढ़ में 2 लाख लोग बिजली कनेक्शन नहीं चाहते थे
लोकसभा में पेश गैर विद्युतीकृत घरों के राज्यवार आंकड़ों के अनुसार, असम में पहले अनिच्छुक 2 लाख घर गैर विद्युतीकृत थे, जिसमें अप्रैल से अक्टूबर 2019 के बीच 65,979 घरों का विद्युतीकरण किया गया और 31 अक्टूबर तक 1.34 लाख घर गैर विद्युतीकृत है. छत्तीसगढ़ में पहले अनिच्छुक 40,394 घर गैर विद्युतीकृत थे जिसमें से, अप्रैल से अक्टूबर 2019 के बीच 1888 घरों का विद्युतीकरण किया गया और 31 अक्टूबर तक 38,506 घर ऐसे हैं जहां बिजली नहीं है.

झारखंड में अभी 1.45 लाख घर बिजली सुविधा से वंचित 
झारखंड में पहले अनिच्छुक लोगों के 2 लाख घर गैर विद्युतीकृत थे, जिसमें से अप्रैल से अक्टूबर 2019 के बीच 54,234 घरों में बिजली पहुंचाई गई. 31 अक्टूबर तक 1.45 लाख घर बिजली सुविधा से वंचित है. कर्नाटक में पहले अनिच्छुक लोगों के 39,738 घर गैर विद्युतीकृत थे, जिसमें से अप्रैल से अक्टूबर 2019 के बीच 20,538 घरों का विद्युतीकरण किया गया और 31 अक्टूबर तक 19,200 घर गैर विद्युतीकृत है.

मणिपुर में पहले अनिच्छुक लोगों के 1141 घर गैर विद्युतीकृत थे. राज्य में अप्रैल से अक्टूबर 2019 के बीच 1980 घरों का विद्युतीकरण किया गया. यहां 31 अक्टूबर की स्थिति के अनुसार, बिजली से वंचित कोई घर नहीं है. राजस्थान में पहले अनिच्छुक लोगों 2,28,403 घर गैर विद्युतीकृत थे, जिसमें अप्रैल से अक्टूबर 2019 के बीच 2,12,786 घरों का विद्युतीकरण किया गया. 31 अक्टूबर तक 15,617 घरों में बिजली का कनेक्शन नहीं था. उत्तर प्रदेश में पहले अनिच्छुक लोगों के 12 लाख घर गैर विद्युतीकृत थे, जिसमें से अप्रैल से अक्टूबर 2019 के बीच 1,62,738 घरों का विद्युतीकरण किया गया और 31 अक्टूबर तक 10,37,265 घरों में बिजली का कनेक्शन नहीं था.
Loading...

ये भी पढ़ें...
रजनीकांत ने दिए बड़े संकेत, बोले-2021 में तमिलनाडु की राजनीति में होगा चमत्कार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 5:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com