LAC पर शहीद राज्य के सैनिकों के परिवार को 5 लाख मुआवजा और 1 सदस्य को नौकरी देगा बंगाल

LAC पर शहीद राज्य के सैनिकों के परिवार को 5 लाख मुआवजा और 1 सदस्य को नौकरी देगा बंगाल
ममता बनर्जी ने एलएसी पर शहीद हुये राज्य के सैनिकों के परिवारों के लिये 5 लाख रुपये की घोषणा की है (फाइल फोटो)

बता दें कि चीनी सेना (PLA) के साथ भारतीय सेना (Indian Army) की झड़प हिंसक हो गई थी. इस हिंसा में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे. जबकि कई चीनी सैनिक भी इस भिड़ंत में हताहत हुए थे. यह मसला भारत-चीन सीमा (Indo-Chinese Border) पर पिछले कुछ हफ्ते से गर्मा रहा था.

  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की CM ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने बुधवार को घोषणा की है कि पश्चिम बंगाल, LAC पर गलवान घाटी (Galwan Valley) में चीन (China) के साथ हुई झड़प में शहीद हुए राज्य के दोनों जवानों (Soldiers) के परिवारों को पांच-पांच लाख का मुआवजा (Compensation) देगा. इसके अलावा इन शहीद सैनिकों (Martyr Soldiers) के परिवार में 1 सदस्य को राज्य की ओर से नौकरी भी दी जाएगी.

बता दें कि चीनी सेना (PLA) के साथ भारतीय सेना (Indian Army) की झड़प हिंसक हो गई थी. इस हिंसा में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे. जबकि कई चीनी सैनिक भी इस भिड़ंत में हताहत हुए थे. यह मसला भारत-चीन सीमा (Indo-Chinese Border) पर पिछले कुछ हफ्ते से गर्मा रहा था.

मोदी ने मुख्यमंत्रियों से की बातचीत, बैठक में नहीं थीं ममता बनर्जी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मसले पर बुधवार को एक सर्वदलीय बैठक (All Party Meet) बुलाई, जिसमें इस मुद्दे पर राज्य के मुख्यमंत्रियों के साथ भी बातचीत हुई. कुछ रिपोर्ट्स में बताया गया है कि ममता बनर्जी इस बैठक का हिस्सा नहीं थीं.
पीएम मोदी ने मीटिंग में कहा, "मैं राष्ट्र को आश्वस्त करता हूं कि हमारे जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा. हमारे लिए, देश की एकता और अखंडता सबसे जरूरी है... भारत शांति चाहता है लेकिन अगर इसे उकसाया जाता है तो हम उचित बयान देने में सक्षम हैं."



बैठक के दौरान सैनिकों के सम्मान में दो मिनट का मौन
प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्रियों की बैठक की शुरुआत उन सैनिकों के लिए दो मिनट का मौन रखने के साथ हुई, जिन्होंने हिंसक झड़प में अपनी जान खोई है.

पीएम मोदी ने इस दौरान यह भी कहा कि इतिहास भी इस बात का गवाह है कि हमने विश्व में शांति (World Peace) फैलाई, पड़ोसियों के साथ दोस्ताना तरीके से काम किया. हमेशा उनके विकास और कल्याण की कामना की है. भारत सांस्कृतिक रूप से एक शांति प्रिय देश है. हमारा इतिहास शांति का रहा है. भारत का वैचारिक मंत्र ही रहा है- लोकाः समस्ताः सुखिनों भवन्तु.

यह भी पढ़ें:- PM मोदी ने चीन को चेताया-भारत को उकसाने पर निर्णायक जवाब मिलेगा, 10 बड़ी बातें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading