सार्वजनिक बसों और टर्मिनल को सैनिटाइज करने के लिए 56 करोड़ रुपये जारी किए गए: सरकार

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्य मंत्री वीके सिंह ने संसद में बताया कि लॉकडाउन के दौरान कोरोना के बजाय किस कारण लोगों की ज्‍यादा मौत हुई.
सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्य मंत्री वीके सिंह ने संसद में बताया कि लॉकडाउन के दौरान कोरोना के बजाय किस कारण लोगों की ज्‍यादा मौत हुई.

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्य मंत्री वीके सिंह (VK Singh) ने कहा, ‘‘राज्य सरकारों (State Governments) को सार्वजनिक परिवहन सेवा (Public transport service) के वाहनों एवं बस टर्मिनलों को सैनिटाइज (Sanitize) करने तथा कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर जागरुकता फैलाने के लिए 56.32 करोड़ रुपये प्रदान किए गए हैं.’’

  • भाषा
  • Last Updated: September 22, 2020, 11:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार (Government) ने मंगलवार को लोकसभा (Lok Sabha) में बताया कि कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के मद्देनजर सार्वजनिक परिवहन सेवा (Public transport service) के वाहनों एवं बस टर्मिनलों (Bus Terminals) को सैनिटाइज (Sanitize) करने के लिए तथा जागरुकता लाने के लिए राज्यों को 56.32 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता (economic aid) प्रदान की गयी. सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्य मंत्री (Minister of State for Road Transport and Highways) वीके सिंह (VK Singh) ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी.

उन्होंने कहा, ‘‘राज्य सरकारों (State Governments) को सार्वजनिक परिवहन सेवा (Public transport service) के वाहनों एवं बस टर्मिनलों को सैनिटाइज (Sanitize) करने तथा कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर जागरुकता फैलाने के लिए 56.32 करोड़ रुपये प्रदान किए गए हैं.’’ मंत्री ने कहा कि राज्य सरकारों (State Governments) को सलाह दी गई कि वे सार्वजनिक परिवहन सेवा के वाहनों, बस टर्मिनलों और स्टॉप पर स्वास्थ्य संबंधी संदेश (Health related messages) लिखें.

भारत कोविड-19 से ठीक होने वाले लोगों के मामले में पहले नंबर पर
देश में जारी कोरोना वायरस के कहर के बीच पिछले 24 घंटे में एक लाख से ज्यादा लोग ठीक हुए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय में सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में बताया कि भारत कोविड-19 से ठीक होने वाले लोगों के मामले में पहले नंबर पर है. भूषण ने कहा कि देश में बीते एक दिन में एक लाख 1 हजार 468 लोग ठीक हुए हैं. राजेश भूषण ने कहा कि जब हम भारत के कुल मामलों की बात करते हैं तो देखते हैं कि देश में करीब 50 लाख मामले हैं लेकिन हम ये भूल जाते हैं कि करीब 45 लाख लोग इससे पहले ही उबर चुके हैं. राजेश भूषण ने कहा कि देश में लगातार चौथे दिन ठीक होने वाले मरीजों की संख्या संक्रमण के नए मामलों से ज्यादा है.




यह भी पढ़ें: दिल्ली दंगे की जांच पर सवाल, 13 पूर्व जज बोले- कुछ लोग विभाजनकारी एजेंडा चला रहे

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि भारत में प्रति दस लाख की जनसंख्या पर कोरोना वायरस से होने वाली मौतों का आंकड़ा दुनिया में सबसे कम है. दुनिया में यह संख्या 123 है जबकि भारत में यह 64 है. राजेश भूषण ने कहा कि देश में कोरोना के एक्टिव मामले कुल मामलों का पांचवां हिस्सा हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि भारत में कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या दुनिया में सबसे ज्यादा है. भारत में अब तक 44 लाख, 97 हजार 867 लोग ठीक हो चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज