• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • RSS प्रमुख मोहन भागवत 1 अक्‍टूबर को जाएंगे जम्‍मू-कश्‍मीर, अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पहला दौरा

RSS प्रमुख मोहन भागवत 1 अक्‍टूबर को जाएंगे जम्‍मू-कश्‍मीर, अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पहला दौरा

RSS प्रमुख मोहन भागवत 1अक्‍टूबर को जाएंगे जम्‍मू-कश्‍मीर. (फाइल फोटो)

RSS प्रमुख मोहन भागवत 1अक्‍टूबर को जाएंगे जम्‍मू-कश्‍मीर. (फाइल फोटो)

RSS प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) 1 अक्टूबर से 3 अक्टूबर तक केंद्र शासित प्रदेश में रहेंगे और इस दौरान वह 'प्रबुद्ध वर्ग' के सदस्यों के साथ बातचीत करेंगे. अपनी यात्रा के दौरान भागवत बुद्धिजीवियों से मिलेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) आर्टिकल 370 (Article 370) और आर्टिकल 35ए (Article 35A) के निरस्त होने के बाद पहली बार जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) की यात्रा पर जाने वाले हैं. भागवत, 1 अक्टूबर से 3 अक्टूबर तक केंद्र शासित प्रदेश में रहेंगे और इस दौरान वह ‘प्रबुद्ध वर्ग’ के सदस्यों के साथ बातचीत करेंगे. अपनी यात्रा के दौरान भागवत बुद्धिजीवियों से मिलेंगे. बता दें कि आरएसएस के सरसंघचालक का कार्यक्रम बहुत व्यस्त है क्योंकि यह यात्रा दो साल से अधिक समय के बाद हो रही है.

    सूत्रों के मुताबिक जम्मू में बुद्धिजीवियों से मिलना ही एकमात्र सार्वजनिक कार्यक्रम है, भागवत इसमें शामिल होंगे. संघ के सूत्रों के मुताबिक आरएसएस सरसंघचालक, जो आमतौर पर दो साल में एक बार हर “प्रांत” का दौरा करते हैं, पिछले दो वर्षों से देश में चल रही कोरोना महामारी के कारण कहीं भी यात्रा पर नहीं जा रहे हैं. जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 और 35ए के खत्‍म होने के बाद केंद्र शासित प्रदेश की उनकी ये पहली यात्रा है.

    आरएसएस से जुड़े एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने कहा, ‘वह आमतौर पर दो साल में एक बार किसी भी राज्‍य का दौरा जरूर करते है, लेकिन कोविड से संबंधित प्रोटोकॉल के कारण उनका दौरा पिछले दो साल में काफी सीमित रहा है.’ बता दें कि सरसंघचालक जब कभी भी किसी क्षेत्र का दौरा करते हैं तो प्रचारकों और संघ के कार्यों में शामिल लोगों से जरूर मिलते हैं.

    कोरोना महामारी के कारण इस दौरान मोहन भागवत की यात्रा नहीं हो पा रही थी. अधिकारी ने बताया कि आरएसएस प्रमुख जम्मू-कश्मीर में काम कर रहे प्रचारकों और आरएसएस से जुड़े संगठनों के प्रमुखों से मुलाकात करेंगे और जमीनी हालात का जायजा लेंगे. सूत्रों ने कहा, ‘हम समाज और उसकी चिंताओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं और केंद्र शासित प्रदेश में बेहतर स्थिति के मद्देनजर यह दौरा महत्वपूर्ण है. इस दौरान जम्‍मू-कश्‍मीर की बदली स्थिति के बाद हो रहे बदलाव का जायजा लिया जाएगा.’

    बता दें कि अगस्त 2019 में, केंद्र ने भारत के संविधान के अनुच्छेद 370 को निरस्त कर दिया, जिसके तहत तत्कालीन राज्य जम्मू और कश्मीर को विशेष राज्‍य का दर्जा दिया गया था. इसके साथ ही इस क्षेत्र को दो क्षेत्रों- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया गया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज