RSS में बदलाव की अटकलें तेज़, क्या भैयाजी जोशी फिर से बनेंगे सरकार्यवाह?

RSS के मौजूदा सरकार्यवाह भैयाजी जोशी (फ़ाइल फोटो)

RSS के मौजूदा सरकार्यवाह भैयाजी जोशी (फ़ाइल फोटो)

RSS Meeting: चुनाव को लेकर संघ के इतिहास में आज तक कभी भी वोटिंग की नौबत नहीं आई है. हर बार सरकार्यवाह का चुनाव निर्विरोध ही हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2021, 11:12 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) में बड़े बदलाव को लेकर अटकलें तेज़ हो गई हैं. कहा जा रहा है कि RSS के मौजूदा सरकार्यवाह भैयाजी जोशी (Bhaiyyaji Joshi) अपने पद से हट सकते हैं. ऐसे में शनिवार को नए सरकार्यवाह के लिए चुनाव हो सकता है. खबरों के मुताबिक, अगर भैयाजी जोशी अपने पद से हटते हैं तो फिर उनकी जगह दत्तात्रेय होसबोले नए सरकार्यवाह बन सकते हैं. बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक इन दिनों बेंगलुरु में चल रही है. आज इस बैठक का दूसरा दिन है.

संघ में सबसे बड़ा कार्यकारी पद सरकार्यवाह का ही है. एक दशक से ज्यादा वक्त से भैया जी जोशी सरकार्यवाह हैं. बता दें कि तीन साल पहले भी इसी तरह की चर्चा थी कि जोशी अपने पद से हट सकते हैं, लेकिन तब भी भैयाजी जोशी ही चुने गए थे. हालांकि एक बार फिर से अटकलों का दौर तेज़ है. अगर जोशी अगला कार्यकाल नहीं चाहेंगे तो चुनाव में सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले को चुना जाना लगभग तय है. होसबोले कर्नाटक के शिमोगा से हैं.

नहीं हुई है वोटिंग

चुनाव को लेकर संघ के इतिहास में आज तक कभी भी वोटिंग की नौबत नहीं आई है. हर बार सरकार्यवाह का चुनाव निर्विरोध ही हुआ है. चुनाव की पूरी प्रक्रिया का पालन किया जाता है. चुनाव अधिकारी नए सरकार्यवाह के लिए नाम आमंत्रित करते हैं. नए सरकार्यवाह का चुनाव होने के बाद वे अपनी पूरी टीम बनाते है.
ये भी पढ़ें:- 'कोरोना की दूसरी लहर के बीच देश, फिर आ सकते हैं रोजाना एक लाख केस'

बैठक में इस बार कम है स्वयंसेवकों की संख्या

बता दें कि कोरोना महामारी की वजह से इस बार अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक काफी छोटी रखी गई है. इस बार की बैठक में देश भर से सिर्फ 500 से लेकर 550 वरिष्ठ स्वयंसेवकों को ही इसमें आमंत्रित किया गया है. आमतौर पर प्रतिनिधी सभा की बैठक में तीन हजार से ज्यादा वरिष्ठ पदाधिकारी भाग लेते है. आरएसएस के हर प्रांत से भी सिर्फ सात-आठ पदाधिकारियों को ही इस बार आमंत्रित किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज