चीन के साथ झड़प में शहीद भारतीय जवानों को RSS ने किया नमन, कहा- सभी देशवासी सेना और सरकार के साथ

चीन के साथ झड़प में शहीद भारतीय जवानों को RSS ने किया नमन, कहा- सभी देशवासी सेना और सरकार के साथ
आरएसएस के वक्तव्य में कहा गया है कि चीन की सरकार एवं सेना के इस आक्रामक एवं हिंसक कृत्य की हम कठोर निंदा करते हैं.

भारत चीन (India China) के बीच लद्दाख (Ladakh) में हुई हिंसक झड़प में शहीद भारतीय जवानों को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) ने श्रद्धांजलि अर्पित की है. आरएसएस (RSS) के सरसंघचालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) और सरकार्यवाह भय्याजी जोशी (Bhaiyyaji Joshi) ने वक्तव्य जारी किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 17, 2020, 10:06 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) की गलवान घाटी (Galwan Valley) में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प (India-China Faceoff) में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए. शहीद भारतीय जवानों को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) ने श्रद्धांजलि अर्पित की है. आरएसएस (RSS) के सरसंघचालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) और सरकार्यवाह भय्याजी जोशी (Bhaiyyaji Joshi) ने वक्तव्य जारी किया है. वक्तव्य के अनुसार "राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ देश की प्रभुसत्ता,अखंडता एवं आत्मसम्मान की रक्षा हेतु लद्दाख के गलवान घाटी क्षेत्र में सीमाओं की रक्षा करते हुए सर्वोच्च बलिदान देकर वीरगति को प्राप्त करने वाले सैनिकों को श्रद्धावनत नमन करता है..."

वक्तव्य में आगे लिखा गया "सैनिकों के परिवार जनों को देशवासियों की ओर से सांत्वना प्रकट करते हैं. चीन की सरकार एवं सेना के इस आक्रामक एवं हिंसक कृत्य की हम कठोर निंदा करते हैं. संकट की इस घड़ी में हम सभी भारतवासी पूर्णतया भारतीय सेना एवं सरकार के साथ हैं.


वहीं आरएसएस (RSS) की राष्ट्रीय परिषद के सदस्य इंद्रेश कुमार (Indresh Kumar) ने एक वेबिनार में कहा कि भारत हमेशा से विश्व शांति का पक्षधर रहा है. हम युद्ध नहीं चाहते लेकिन यदि हमें विवश किया जाएगा तो मुंहतोड़ जवाब अवश्य देंगे. भारत और भारत की संस्कृति विश्व बंधुत्व और सद्भाव में विश्वास करती है. हमारे सद्भाव को यदि कोई हमारी कमजोरी समझता है तो यह उसकी भूल है.



गौरतलब है कि लद्दाख में बीते एक महीने से भी ज्यादा समय से भारत और चीन के बीच जारी तनातनी 15-16 जून की दरम्यानी रात हिंसक झड़प में तब्दील हो गई. इस हिंसक झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए जबकि चीन के भी कई सैनिक इस दौरान मारे गए हैं.

ये भी पढ़ें-
भारत-चीन तनाव पर आरएसएस के वरिष्ठ प्रचारक इंद्रेश कुमार ने कही ये बड़ी बात

चीन के साथ संघर्ष के लिए तैयार रहे भारत,1962 जैसी स्थिति नहीं: पूर्व आर्मी चीफ
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज