Assembly Banner 2021

बीजेपी से संघ में हुई राम माधव की वापसी, होसबोले के बाद एक बड़ा फैसला

दत्तात्रेय होसबोले RSS के नए सरकार्यवाह बन गए हैं. (फाइल फोटो)

दत्तात्रेय होसबोले RSS के नए सरकार्यवाह बन गए हैं. (फाइल फोटो)

बीजेपी नेता राम माधव एक बार फिर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ यानी आरएसएस में लौट आए हैं. वे पहले संघ से बीजेपी में महासचिव बनकर गए थे और कश्मीर समेत कई मामलों में बड़ी भूमिका निभाई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2021, 5:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के नए सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले चुने गए हैं. यह चुनाव बेंगलुरु के चेन्नहल्ली स्थित जनसेवा विद्या केंद्र में चल रही प्रतिनिधि सभा में शनिवार (20 मार्च) को हुआ. बता दें कि आज इस बैठक का आखिरी दिन है. संघ की प्रतिनिधि सभा ने सर्वसम्मति से अगले तीन साल के लिए दत्तात्रेय को सरकार्यवाह चुना है.

संघ की नई टीम में अखिल भारतीय संपर्क प्रमुख रामलाल, अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख आलोक को बनाया गया है. इसके साथ ही पश्चिमी उत्त प्रदेश और उत्तराखंड के लिए महेंद्र जी को नया क्षेत्र प्रचारक बनाया गया है.

बीजेपी से संघ में हुई राम माधवी की वापसी
इसके साथ ही बीजेपी नेता राम माधव एक बार फिर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ यानी आरएसएस में लौट आए हैं. वे पहले संघ से बीजेपी में महासचिव बनकर गए थे और कश्मीर समेत कई मामलों में बड़ी भूमिका निभाई. अब राम माधव दोबारा से संघ के सेवा कार्यों का मोर्चा संभालेंगे.
संघ ने ट्वीट में कहा, ‘‘वह 2009 से ही आरएसएस के सह- सरकार्यवाह थे.’’ होसबोले, 73 वर्षीय ‘भैयाजी’ जोशी का स्थान लेंगे, जो तीन-तीन वर्षों के लिए चार बार सरकार्यवाह रहे. सरकार्यवाह पद को संघ में सरसंघचालक के बाद दूसरे नंबर का पद माना जाता है. वर्तमान में मोहन भागवत सरसंघचालक हैं.



हर तीसरे वर्ष होता है सहकार्यवाह का चुनाव
एबीपीएस की वार्षिक बैठक अलग-अलग स्थानों पर होती है लेकिन हर तीसरे वर्ष यह नागपुर स्थित आरएसएस के मुख्यालय में होती है जहां सरकार्यवाह का चुनाव होता है. बहरहाल, महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए इस वर्ष इसे बेंगलुरू स्थानांतरित कर दिया गया.

ये भी पढ़ें:- इस सरकार ने क्या बढ़ाया? बेरोज़गारी, महंगाई और बस मित्रों की कमाई- राहुल गांधी

65 वर्षीय होसबोले का जन्म शिवमोगा के सोराब में हुआ था. वह अंग्रेजी साहित्य में परास्नातक हैं. 1968 में वह संघ में शामिल हुए थे. शुरू में वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (एबीवीपी) के साथ जुड़े जो आरएसएस की छात्र शाखा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज