रूस ने एंटी कोविड वैक्सीन स्पूतनिक के सिंगल शॉट वर्जन को दी मंजूरी, भारत में होगा टीके का निर्माण

रूस की सिंगल डोज वाली स्पुतनिक लाइट वैक्सीन (सांकेतिक तस्वीर)

रूस की सिंगल डोज वाली स्पुतनिक लाइट वैक्सीन (सांकेतिक तस्वीर)

रूस ने (Russia) ने बीते साल अगस्त में कोरोना वायरस की वैक्सीन स्पूतनिक वी को मंजूरी दी थी. इसके बाद सितंबर में डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज और रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) ने स्पुतनिक वी के चिकित्सकीय परीक्षण के लिए एक समझौता किया था.

  • Share this:

मास्को. रूस (Russia) ने कोविड-19 रोधी अपने टीके स्पूतनिक-वी (Sputnik V) की सिंगल शॉट वाले संस्करण को गुरुवार को यह तर्क देते हुए नियामक मंजूरी प्रदान कर दी कि इस कदम से कोरोना वायरस के खिलाफ सामूहिक प्रतिरक्षा प्राप्त करने की प्रक्रिया में तेजी आ सकती है. टीके के इस संस्करण का नाम ‘स्पूतनिक लाइट’ है और यह दो-खुराक वाले स्पूतनिक-वी की पहली खुराक के समान है. इसे अभी तक स्थापित वैज्ञानिक प्रोटोकॉल के अनुरूप इसकी सुरक्षा और प्रभावशीलता सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक उन्नत परीक्षण पूरा करना बाकी है.

रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (RDIF) के सीईओ किरिल दिमित्रिज ने कहा कि उन्होंने 20 से अधिक उत्पादकों के साथ समझौता किया है जहां स्पूतनिक के दोनों वैक्सीन - Sputnik V और स्पूतनिक लाइट का निर्माण करेंगे. इसमें भारत, दक्षिण कोरिया और चीन सहित 10 देश शामिल हैं.

जनवरी में शुरू हुआ ह्यूमन ट्रायल, स्टडी अभी भी जारी

आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार रूस ने जनवरी में ‘स्पूतनिक लाइट’ का ह्यूमन ट्रायल शुरू किया था और स्टडी अभी भी जारी हैं. ‘स्पूतनिक लाइट’ रूस में स्वीकृत चौथा घरेलू विकसित कोविड-19 रोधी टीका है जिसे देश में मंजूरी दी गई है.
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने इसे उपयोग के लिए अधिकृत करने के निर्णय पर टिप्पणी करते हुए गुरुवार को कहा, ‘यह जानकर अच्छा लगा कि (कोविड-19 के खिलाफ) इस उपकरण का विस्तार हो रहा है.’

हाल ही में भारत को मिली स्पूतनिक की डेढ़ लाख खुराक

रूसी स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने कहा कि चौथे टीके को अधिकृत करने से वायरस के खिलाफ हर्ड इम्यूनिटी बनाने की प्रक्रिया को गति देने में मदद मिलेगी. अधिकतर वैज्ञानिकों का मानना है कि कोविड-19 के खिलाफ हर्ड इम्यूनिटी हासिल करने के लिए कम से कम 70 प्रतिशत आबादी का टीकाकरण आवश्यक है, लेकिन सटीक सीमा अभी भी अज्ञात है.




हाल ही में भारत को रूस से स्पूतनिक वी वैक्सीन की 1.5 लाख खुराक की पहली खेप मिली. रूस ने 11 अगस्त 2020 को कोरोना वायरस की वैक्सीन स्पूतनिक वी को मंजूरी दी थी. इसके बाद सितंबर में डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज और RDIF ने स्पुतनिक वी के चिकित्सकीय परीक्षण के लिए एक समझौता किया था. डॉ रेड्डीज को रुसी वैक्सीन के नियंत्रित आपातकालिक उपयोग की अनुमति पहले ही मिल चुकी है. हैदराबाद स्थित कंपनी ने कहा कि इसके बाद अगले कुछ हफ्तों में अगली खेप आ जाएगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज