Home /News /nation /

रूस के साइबर ग्रुप्स ने भारत को बनाया निशाना, वैक्सीन को लेकर फैलाया झूठ: फेसबुक रिपोर्ट

रूस के साइबर ग्रुप्स ने भारत को बनाया निशाना, वैक्सीन को लेकर फैलाया झूठ: फेसबुक रिपोर्ट

भारतीय दर्शकों को निशाना बनाकर चलाए गए इन ज्यादातर अभियानों का कोई खास असर नहीं पड़ा है. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

भारतीय दर्शकों को निशाना बनाकर चलाए गए इन ज्यादातर अभियानों का कोई खास असर नहीं पड़ा है. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

Facebook Report: ब्रिटेन में रजिस्टर्ड कंपनी FAZZE ने 65 फेसबुक अकाउंट्स और 243 इंस्टाग्राम अकाउंट्स का इस्तेमाल कर कोविड-19 वैक्सीन से लोगों के चिम्पैंजी में बदलने जैसी गलत जानकारी फैलाई.

    नई दिल्ली. फेसबुक पर रूस के साइबर ग्रुप्स कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) को लेकर गलत जानकारी फैलाने के लिए भारत (India), लैटिन अमेरिका (Latin Groups) और अमेरिका के कुछ हिस्सों में यूजर्स को निशाना बना रहे थे. इस बात का खुलासा हाल ही में जारी हुई फेसबुक की एक रिपोर्ट में हुआ है. रिपोर्ट में कहा गया है कि ये समूह फेसबुक पर एस्ट्राजेनेका और फाइजर की वैक्सीन के खिलाफ गलत जानकारी साझा कर रहे थे. कंपनी ने दावा किया है कि भारतीय दर्शकों को निशाना बनाकर चलाए गए इन ज्यादातर अभियानों का कोई खास असर नहीं हुआ.

    इंडियन एक्सप्रेस ने 10 अगस्त को फेसबुक की तरफ से जारी की गई जुलाई 2021कॉर्डिनेटेड इनऑथैंटिक बिहेवियर रिपोर्ट  के हवाले से लिखा कि ब्रिटेन में रजिस्टर्ड कंपनी FAZZE ने 65 फेसबुक अकाउंट्स और 243 इंस्टाग्राम अकाउंट्स का इस्तेमाल कर कोविड-19 वैक्सीन से लोगों के चिम्पैंजी में बदलने जैसी गलत जानकारी फैलाई. यह कंपनी प्रमुख रूप से अपने ऑपरेशन रूस के अंदर से ही संचालित करती थी. फेसबुक ने FAZZE पर प्रतिबंध लगा दिया है.

    कंपनी ने बताया कि उन्हें जांच में FAZZE और इन अभियानों के तार आपस में जुड़े होने की जानकारी मिली है. साथ ही ये अभियान पांच महीनों की निष्क्रियता के साथ दो अलग-अलग समय पर चलाए गए. पहले नवंबर और दिसंबर 2020 में नेटवर्क ने मीम और कमेंट पोस्ट किए, जो दिखा रहे थे कि कोविड-19 वैक्सीन के बाद लोग चिम्पैंजी बन रहे हैं.

    यह भी पढ़ें: केंद्र सरकार का राज्यों से अनुरोध- पूर्ण टीकाकरण वाले यात्रियों को मिले RT-PCR सर्टिफिकेट दिखाने से छूट

    रिपोर्ट के मुताबिक, ‘पांच महीनों के बाद मई 2021 में ग्रुप ने एस्ट्राजेनेका का कथित लीक डॉक्यूमेंट पोस्ट कर फाइजर वैक्सीन की सुरक्षा पर सवाल उठाए थे. यह बात गौर करने वाली है कि दोनों चरण उस अवधि से मेल खाते थे, जब लैटिन अमेरिका, भारत और अमेरिका समेत कई सरकारें इन वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी पर कथित रूप से चर्चा कर रही थीं.’

    सोशल मीडिया कंपनी ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि इन अभियानों के तहत मीडियम, रेडिट, चेंज डॉट ओआरजी जैसे कई प्लेटफॉर्म्स पर गलत जानकारी वाले लेख और याचिकाएं तैयार की गई. रिपोर्ट में फेसबुक ने यह भी दावा किया है कि भारतीय दर्शकों के लिए तैयार हुए ज्यादातर अभियान बेअसर रहे. रिपोर्ट के अनुसार, ‘इस आर्टिकल के लिखे जाने तक चेंज डॉट ओआरजी पर अंग्रेजी भाषा में जारी याचिका पर केवल 550 लोगों ने हस्ताक्षर किए थे. और इसकी हिंदी भाषी याचिका पर 900 से कम दस्तखत थे. केवल पेड इन्फ्लुएंसर्स की पोस्ट पर ही कुछ सीमित ध्यान गया.’

    फेसबुक ने यह भी कहा है कि कंपनी ने फाइजर और एस्ट्राजेनेका के खिलाफ अभियान के अलावा म्यांमार में दर्शकों को निशाना बना रहे नेटवर्क को भी खत्म किया गया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि नेटवर्क ने फेसबुक पर पोस्ट करने, खुद के पोस्ट पर कमेंट करने और ग्रुप बनाने के लिए ‘नकली और फर्जी खातों’ का इस्तेमाल किया था.

    Tags: Covid-19 vaccine, Cyber Groups, Facebook, Russia

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर