होम /न्यूज /राष्ट्र /अमेरिका के सामने भारत ने वीजा संबंधी चुनौतियों का उठाया मुद्दा, US ने दिया आश्वासन

अमेरिका के सामने भारत ने वीजा संबंधी चुनौतियों का उठाया मुद्दा, US ने दिया आश्वासन

भारत ने वीजा संबंधी होने वाली परेशानियों से अमेरिका को अवगत कराया.

भारत ने वीजा संबंधी होने वाली परेशानियों से अमेरिका को अवगत कराया.

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन की बैठक में भारतीयों के लिए वीज ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिका के सामने वीजा संबंधी चुनौतियों को रखा.
अमेरिका का वीजा पाने वाले भारतीयों के लिए वेटिंग पीरियड 800 दिन हो गया है.
भारतीय छात्रों को वीजा के लिए वेटिंग पीरियड 430 दिन है.

नई दिल्ली. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन की बैठक में भारतीयों के लिए वीजा संबंधी कुछ चुनौतियों के बारे में बताया. ब्लिंकन ने कहा कि मुद्दे काफी हद तक COVID-19 महामारी के कारण थे. उन्होंने एस जयशंकर को भी आश्वस्त किया कि संयुक्त राज्य अमेरिका उन चिंताओं को दूर करने का लक्ष्य बना रहा है. यूएस स्टेट डिपार्टमेंट की वेबसाइट के मुताबिक, यूएस में विजिटर वीजा हासिल करने की चाहत रखने वाले भारतीयों के लिए वेटिंग पीरियड 800 दिन हो गया है. छात्र/एक्सचेंज विजिटर वीजा और अन्य गैर-आप्रवासी वीजा के लिए प्रतीक्षा अवधि लगभग 400 दिन है.

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक संयुक्त राज्य अमेरिका में सभी अंतरराष्ट्रीय छात्रों की संख्या के लगभग 20 प्रतिशत भारतीय छात्र शामिल हैं. साल 2021 में ओपन डोर्स रिपोर्ट में दिखाया गया है कि 2020-2021 शैक्षणिक वर्ष में भारत से 167,582 छात्र अमेरिका गए थे. अमेरिकी विदेश विभाग की वेबसाइट से पता चलता है कि नई दिल्ली में वाणिज्य दूतावास में वीजा नियुक्ति के लिए औसत वेटिंग विजिटर वीजा के लिए 833 दिन और छात्र वीजा के लिए 430 दिन है. अगर अमेरिका के वीजा के लिए मुंबई से आवेदन किया जाता है  तो यूएस वीज़ा अपॉइंटमेंट के लिए औसत प्रतीक्षा समय विज़िटर वीज़ा के लिए 848 दिन और छात्र वीज़ा के लिए 430 दिन है.

अन्य सभी गैर-आप्रवासी वीजा के लिए प्रतीक्षा समय दिल्ली में 390 दिन और मुंबई में 392 दिन है. संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि भारत यह नहीं मानता कि लोकतंत्र की प्रभावशीलता या गुणवत्ता दूसरों द्वारा तय की जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रत्येक देश अपने इतिहास, परंपरा और सामाजिक संदर्भ से लोकतंत्र, मानवाधिकार और सुशासन की ओर आगे बढ़ता है. जयशंकर ने अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘हमने पिछले दो दिन में लोकतंत्र, मानवाधिकारों तथा सुशासन को मजबूत करने की अपनी प्रतिबद्धता पर बात की है.’(इनपुट भाषा से)

Tags: S Jaishankar, US Visa

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें