Home /News /nation /

क्वाड के जरिए इशारों में भारत का चीन पर हमला, जयशंकर बोले- एकाधिकार के दिन खत्म हो गए

क्वाड के जरिए इशारों में भारत का चीन पर हमला, जयशंकर बोले- एकाधिकार के दिन खत्म हो गए

विदेश मंत्री एस जयशंकर. (फाइल फोटो)

विदेश मंत्री एस जयशंकर. (फाइल फोटो)

S Jaishankar on Quad: क्वाड का गठन साल 2007 में किया गया था. इसमें भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान शामिल हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली. केंद्रीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को इशारों में ही चीन पर निशाना साधा और कहा कि क्वाड समूह अंतरराष्ट्रीय संगठनों के सुधार के प्रतिरोध का समाधान है. समाचार एजेंसी एएनआई ने जयशंकर के हवाले से कहा, ‘एकतरफावाद के दिन खत्म हो गए हैं, द्विपक्षीयता की अपनी सीमाएं हैं और बहुपक्षवाद बस पर्याप्त रूप से काम नहीं कर रहा है.’ वो ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रीय विश्वविद्यालय के जेजी क्रॉफोर्ड ओरेशन में बोल रहे थे.

    एस जयशंकर वैश्विक सुरक्षा चुनौतियों और कोरोना वायरस बीमारी (कोविड -19) महामारी से बढ़ते आर्थिक और मानव करों के बीच भारत-प्रशांत और भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों पर भारत के दृष्टिकोण पर अपनी बात रख रहे थे. उन्होंने जोर देकर कहा कि एशिया और इंडो-पैसिफिक (हिंद-प्रशांत) का क्षेत्र काफी विशाल है, जिनमें अधिक विविधता और कम सामूहिक व्यक्तित्व है.

    बम से तबाह घर, भीख मांगते बच्चे और तालिबान का ऊंचा झंडा: पत्रकार ने बताया अपना अफगान दौरा

    विदेश मंत्री ने कहा, ‘विकास और आधुनिकीकरण पर एशियाई उप-क्षेत्रों के केंद्रीकरण ने उन्हें अपनी आर्थिक यात्रा की राजनीतिक संगत के बारे में अपेक्षाकृत न्यूनतम दृष्टिकोण अपनाने के लिए प्रेरित किया है.’ गौरतलब है कि क्वाड हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग करने के लिए ऑस्ट्रेलिया, भारत, जापान और अमेरिका का अनौपचारिक समूह है.

    तालिबान बोला- पंजशीर में विद्रोहियों का नेतृत्व कर रहे अमरुल्लाह सालेह ताजिकिस्तान भागे

    क्वॉड्रिलेटरल सिक्योरिटी डायलॉग को संक्षेप में क्वॉड कहा जाता है. इसका गठन साल 2007 में किया गया था. इसमें भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान शामिल हैं. दरअसल क्वॉड का मकसद मुक्त एवं स्वतंत्र हिंद-प्रशांत क्षेत्र को बढ़ावा देना और चीन के आक्रामक व्यवहार पर रोक लगाना है.

    तालिबान की धमकी-सरकार बनाने में अब किसी ने रोड़ा लगाया तो पंजशीर की तरह ही निपटेंगे

    जयशंकर ने आगे कहा, ‘यदि हम भविष्य की रूपरेखा को समझने की कोशिश करें, तो निश्चित ही इसके मूल में सबसे अधिक अहमियत हिंद-प्रशांत क्षेत्र की होगी. भले ही एशिया पिछले कुछ दशकों में यूरोप की तुलना में अधिक गतिशील रहा हो, लेकिन इसका क्षेत्रीय ढांचा कहीं अधिक रूढ़िवादी है.’

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 23 सितंबर को वॉशिंगटन डीसी की अपनी यात्रा के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ द्विपक्षीय संबंधों, अफगानिस्तान में सुरक्षा स्थिति, आतंकवाद और हिंद-प्रशांत क्षेत्र पर चर्चा करने की उम्मीद है.

    Tags: Australia, India, Indo-Pacific, Japan, Quad, S Jaishankar, United States

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर