पाक से बातचीत को लेकर बोले एस. जयशंकर-आतंक और बातचीत साथ नहीं चल सकते

विदेश मंत्री एस. जयशंकर. (तस्वीर-ANI)

विदेश मंत्री एस. जयशंकर. (तस्वीर-ANI)

पाकिस्तान (Pakistan) से बातचीत के मसले पर एस. जयशंकर (S. Jaishankar) ने कहा है कि आतंकवाद (Terrorism) और वार्ता (Talks) साथ-साथ नहीं चल सकते. हालांकि उन्होंने यह भी कहा है कि दोनों पड़ोसी देशों को बड़े मसलों पर आखिरकार रास्ता निकालना ही होगा.

  • Share this:

नई दिल्ली. विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S. Jaishankar) ने आतंकवाद के मसले पर भारत के स्टैंड को एक बार फिर मजबूती से रखा है. पाकिस्तान (Pakistan) से बातचीत के मसले पर उन्होंने कहा है कि आतंकवाद (Terrorism) और वार्ता (Talks) साथ-साथ नहीं चल सकते. हालांकि उन्होंने यह भी कहा है कि दोनों पड़ोसी देशों को बड़े मसलों पर आखिरकार रास्ता निकालना ही होगा. LOC के मसले पर पाकिस्तान के साथ समझौते को उन्होंने बेहतर कदम बताया है. ये बातें एस. जयशंकर ने अमेरिका के पूर्व एनएसए एचआर मैकमास्टर के साथ बातचीत में कही हैं. विदेश मंत्री पांच दिवसीय अमेरिकी दौरे पर हैं.

इसके अलावा एस. जयशंकर ने कोरोना समेत विभिन्न मुद्दों पर अपनी राय रखी है. उन्होंने कहा है कि कोविड-19 महामारी से बाहर निकलने का एकमात्र रास्ता वैश्विक सहयोग है. उन्होंने कहा कि महामारी की दूसरी लहर भारत में भयानक साबित हुई है और इसकी वजह से संक्रमण और मौतों का आंकड़ा बढ़ा. उन्होंने कहा-हम ऑक्सीजन और हॉस्पिटलाइजेशन के चैलेंज से जूझ रहे हैं, अमेरिका इस मुद्दे से भलीभांति वाकिफ है.

Youtube Video

वैश्विक सहयोग की जरूरत पर दिया जोर
दूसरी लहर के दौरान वैश्विक सहयोग की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे वक्त में देशों का एक-दूसरे की मदद करना बेहद जरूरी है.

बड़ी चर्चाओं को आकार देना जारी रखेगा भारत

इससे पहले एस जयशंकर ने विश्वास व्यक्त किया था कि भारत “हमारे वक्त की बड़ी बहसों” को आकार देना जारी रखेगा. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी एस तिरुमूर्ति और अन्य अधिकारियों तथा राजनयिकों से संवाद के बाद उन्होंने यह बात कही थी. इस साल जनवरी में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में गैर स्थायी सदस्य के तौर पर भारत के शामिल होने के बाद जयशंकर की यह पहली अमेरिका यात्रा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज