जहरीली शराब: पंजाब CM के इस्तीफे की मांग करते हुए सुखबीर बादल, सोनिया गांधी के घर धरने पर बैठेंगे

जहरीली शराब: पंजाब CM के इस्तीफे की मांग करते हुए सुखबीर बादल, सोनिया गांधी के घर धरने पर बैठेंगे
इस शराब त्रासदी में 100 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी (News18 क्रिएटिव)

इस जहरीली शराब त्रासदी (Hooch Tragedy) में 100 से अधिक गरीब लोगों की जान गई थी. वहीं इस मामले में 25 लोगों को गिरफ्तार (Arrest) किया जा चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 8, 2020, 7:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल (Sukhbir Singh Badal) पंजाब में अवैध शराब का उत्पादन और बिक्री में शामिल होने के विरोध में कांग्रेस पार्टी सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के घर के बाहर 11 अगस्त को धरना पर बैठेंगे. इस अवैध शराब कांड में 100 से अधिक गरीब लोगों की जान गई थी. मुख्यमंत्री पंजाब (Punjab) के इस्तीफे की मांग करने के लिए और सोनिया और राहुल गांधी को जहरीली शराब (Hooch) के अवैध व्यापार में पंजाब के 70 प्रतिशत कांग्रेसियों (Congressmen) के शामिल होने के आरोप पर चुप्पी तोड़ने की मांग करने के लिए बादल धरने पर बैठेंगे.

बता दें कि पंजाब में जहरीली शराब (Hooch) पीने से 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Punjab CM Captain Amarinder Singh) ने इस मामले में सात आबकारी अधिकारियों और छह पुलिसकर्मियों (police personnel) को निलंबित कर दिया था. ये जानकारी वहां के अधिकारियों ने दी थी. सरकार ने मृतकों के परिवारों के लिए दो-दो लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की थी. वहीं इस मामले में अब तक 25 लोगों को गिरफ्तार (arrest) किया जा चुका है.

कहां कितनी मौतें
जहरीली शराब से सबसे ज्यादा तरनतारन में 63 मौतें हुई हैं, जिसके बाद अमृतसर में 12 और गुरदासपुर के बटाला में 11 मौतें हुईं. राज्य में बुधवार रात से शुरू हुई त्रासदी में शुक्रवार की रात तक 39 लोगों की मौत हो गई थी.
यह भी पढ़ें: केरल हादसा- कोझिकोड के रनवे को लेकर विशेषज्ञ ने 9 साल पहले ही जताई थी चिंता



6 अधिकारी और 7 पुलिसकर्मी सस्पेंड
एक आधिकारिक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री ने छह पुलिसकर्मियों के साथ सात आबकारी अधिकारियों को निलंबित करने का आदेश दिया. निलंबित अधिकारियों में दो उप पुलिस अधीक्षक और चार थाना प्रभारी शामिल थीं. मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले में किसी भी सरकारी अधिकारी या अन्य को शामिल पाया जाता है, तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि जहरीली शराब के उत्पादन और बिक्री को रोकने में पुलिस और आबकारी विभाग की नाकामी शर्मनाक है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज