सचिन वाजे को पुलिस सेवा से बर्खास्त किया गया: मुंबई पुलिस

मुंबई की कोर्ट ने सचिन वाजे को भेजा जेल (फोटो साभार- News18 English)

मुंबई की कोर्ट ने सचिन वाजे को भेजा जेल (फोटो साभार- News18 English)

Mansukh Hiren Death Case: राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) सहायक पुलिस निरीक्षक वाजे को ने 13 मार्च को गिरफ्तार किया था. वाजे के खिलाफ आईपीसी की धारा 285, 465, 473, 506(2), 120(बी) के तहत मामले दर्ज किए गए हैं.

  • Share this:

मुंबई. मनसुख हिरेन की मौत के मामले (Mansukh Hiren Death Case) में आरोपी सचिन हिंदुराव वाजे (Sachin Hindurao Waze) पुलिस सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है. मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने मंगलवार को यह जानकारी दी. कारोबारी मनसुख हिरेन की मौत के मामले में एनआईए ने वाजे को गिरफ्तार किया है. राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) सहायक पुलिस निरीक्षक वाजे को ने 13 मार्च को गिरफ्तार किया था. मनसुख हिरेन की पत्नी विमला हिरेन ने अपने पति की हत्या के मामले में वाजे को आरोप ठहराया था. वाजे के खिलाफ आईपीसी की धारा 285, 465, 473, 506(2), 120(बी) के तहत मामले दर्ज किए गए हैं. इस मामले की शुरुआती जांच के बाद मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को भी पद से हटा दिया गया था.

सचिन वाजे की पहली पोस्टिंग महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में 1990 में हुई. तब वो एक सब इंस्पेक्टर था लेकिन थोड़ी ही समय में उसकी जान-पहचान महाराष्ट्र पुलिस का हर आला अफसर और राजनीतिज्ञ से हो गई. एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के तौर पर पहचाने जाने वाले वाजे ने अपने कार्यकाल में अब तक 63 क्रिमिनल्स के एनकाउंटर्स किए हैं. हिरासत में लिए गए ख्वाजा यूनुस की हत्या के बाद वाजे समेत अन्य तीन पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया था.

ख्वाजा पर दिसंबर 2002 में घाटकोपर विस्फोट धमाकों की साजिश रचने का आरोप लगा था. 27 वर्षीय ख्वाजा यूनुस सॉफ्टवेयर इंजीनियर था. पुलिस हिरासत में उसकी मौत हो गई. सचिन वाजे को तब हत्या और सबूत नष्ट करने के आरोप में निलंबित कर दिया गया.

ये भी पढ़ें- कोरोना के इलाज में कारगर है कैडिला की Virafin! जानें कितने में मिलेगी 1 डोज
लंबी जांच के बाद सचिन वाजे 2004 में सस्पेंड हुआ. उसने 30 नवंबर 2007 में महाराष्ट्र पुलिस विभाग से इस्तीफा दे दिया. जांच होने के कारण इस्तीफा नामंजूर हो गया. साल 2008 में सचिन वाजे शिवसेना में शामिल हो गया. जहां उसे पार्टी का प्रवक्ता बनाया गया. इस विवाद में नाम सामने आने के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा था कि सचिन वाजे 2008 तक ही शिवसेना के सदस्य था, अब उसका पार्टी से कोई संबंध नहीं.



अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज