अशोक गहलोत के निकम्मा कहने से आहत हैं सचिन पायलट, बोले-ये शब्द मेरे लिए पीड़ादायक

अशोक गहलोत के निकम्मा कहने से आहत हैं सचिन पायलट, बोले-ये शब्द मेरे लिए पीड़ादायक
राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के हस्तक्षेप के बाद दोनों नेताओं के बीच चल रहा विवाद शांत हुआ. फाइल फोटो: पीटीआई

राजस्थान की राजनीति (Rajasthan Politics) में जब महाभारत चरम पर था उस समय अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने पायलट (Sachin Pilot) पर निशाना साधते हुए उन्हें निकम्मा कह दिया था. इस पर सचिन पायलट ने जवाब देते हुए कहा, हमारी निष्ठा पर शक करने वालो को सोचना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 11, 2020, 10:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: राजस्थान की राजनीति (Rajasthan Politics) में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) के बीच चल रही खींचतान अब समाप्त हो चुकी है. लेकिन इस रस्साकशी में दोनों ओर से दिए गए बयानों की गर्मी अब भी बाकी है. खासकर अशोक गहलोत ने जिस तरह से पायलट पर निशाना साधा, उसे लेकर अब भी सवाल उठ रहे हैं. ऐसे में जब सचिन पायलट वापस जयपुर लौटे तो उनसे उन बयानों पर प्रतिक्रिया मांगी गई.इस पर सचिन पायलट ने कहा, ये शब्द मेरे लिए पीड़ादायक रहे. इस तरह के हमले के बाद भी मैंने पार्टी या किसी व्यक्ति विशेष के खिलाफ कोई टिप्पणी नहीं की.

दरअसल जब राजस्थान में राजनीति का महाभारत चरम पर था, और सचिन पायलट ने अपने साथी विधायकों के साथ बवागत का बिगुल फूंक दिया था, उस समय अशोक गहलोत ने पायलट पर निशाना साधते हुए उन्हें निकम्मा कह दिया था. इसके साथ ही उन्होंने पायलट को पार्टी में लड़ाई झगडे के लिए जिम्मेदार बताया था. हालांकि इस दौरान भी सचिन पायलट ने कांग्रेस या गहलोत के खिलाफ कोई टिप्पणी नहीं की थी.


इसी बात को दोहराते हुए सचिन ने मंगलवार को जयपुर लौटते ही कहा, जिस तरह के शब्द इस्तेमाल किए, उनसे मैं आहत हुआ. लेकिन मैं चाहता हूं कि अब हमें इसे भूल जाना चाहिए. सार्वजनिक जीवन में हमें इस तरह शब्दों के चयन से बचना चाहिए .



उन्होंने कहा, मैंने गलती की तो स्वीकार करने की क्षमता रखता हूं. लेकिन, उम्मीद करता हूँ दुसरो को भी ये करनी चाहिए. पायलट ने कहा कि मैं सरकार में था पर आज नही हूँ. लेकिन सरकार मेरी भी है. जितना सहयोग कर सकता हूँ उतना करूँगा. पायलट ने कहा कि मेरे लिए जो बोला गया हैं. उससे दुःख तो बहुत होता है. लेकिन मैं चुप रहा. हमारी मांगो में दम है और पार्टी हित में है. तो उसको पूरा करना चाहिए.

पायलट ने उन पर और उनके साथी विधायकों पर भाजपा की मेहमानवाजी में ठहरने के लगाए गए आरोपोंं पर कहा कि रहने के खर्च से लेकर वकीलोंं की फीस की बाते कर माहौल बनाया गया. लेकिन, मैंंने पहले ही कहा था कि सत्य को परेशान किया जा सकता है पराजित नहींं. हमारी निष्ठा पर शक करने वालोंं को सोचना होगा. उन्होंंने कहा कि मैंने किसी पद की मांग नही की है. मैंने कहा हमारे जिन विधायकोंं ने आवाज उठाई है उनके खिलाफ द्वेषता पूर्ण कार्रवाई ना हो. पायलट ने कहा कि इस मिटटी के साथ मेरा रिश्ता अटूट है और ये मेरी कर्मभूमि है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading