Assembly Banner 2021

सचिन वाजे केस: महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने परमबीर सिंह के तबादले पर क्या कहा

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख. (ANI/18 March 2021)

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख. (ANI/18 March 2021)

Maharashtra News: महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि सचिन वाजे केस की एनआईए और एटीएस सलीके से जांच कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 9:40 PM IST
  • Share this:

मुंबई. महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के तबादले पर सफाई देते हुए कहा कि सचिन वाजे केस की जांच बिना किसी बाधा के हो, इसलिए ऐसा किया गया. उन्होंने गुरुवार को कहा, "सचिन वाजे केस की एनआईए और एटीएस सलीके से जांच कर रही है. उसी के मुताबिक कार्रवाई की जाएगी. मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद से परमबीर सिंह का तबादला किया गया है, ताकि जांच में किसी तरह की कोई बाधा ना पहुंचे."


दरअसल महाराष्ट्र सरकार ने दक्षिण मुंबई में विस्फोटक मिलने के मामले से 'निपटने' को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रहे मुंबई पुलिस के आयुक्त परमबीर सिंह का 17 मार्च को तबादला कर दिया था. वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी हेमंत नगराले को परमबीर सिंह की जगह मुंबई पुलिस के नया कमिश्नर बनाया गया है. परमबीर सिंह का राज्य के होमगार्ड विभाग में तबादला कर दिया गया है. बुधवार दोपहर राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात करने वाले देशमुख ने ट्विटर के जरिये परमबीर सिंह के तबादले की जानकारी दी थी. महाराष्ट्र सरकार ने परमबीर सिंह का तबादला करने का फैसला राज्य में सत्तारूढ़ शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस गठबंधन की सिलसिलेवार बैठकों के बाद लिया.



Youtube Video


वहीं, एनआईए का दावा है कि कार में जिलेटिन की छड़ें बरामद होने के मामले में कुछ 'अन्य लोग' भी शामिल थे, जो गिरफ्तार किए गए पुलिस अधिकारी सचिन वाजे को कथित रूप से निर्देश दे रहे थे. एनआईए के सूत्रों ने कहा कि मामले की गुत्थी लगभग सुलझ चुकी है और जल्द ही ''पूरे षड़यंत्र'' पर से पर्दा उठ जाएगा.


गौरतलब है कि दक्षिण मुंबई के एक पॉश इलाके में 25 फरवरी को एक 'स्कॉर्पियो' कार के अंदर जिलेटिन की छड़ें रखी हुई मिली थीं. पुलिस ने कहा था कि कार 18 फरवरी को एरोली-मुलुंड ब्रिज से चोरी हुई थी. महाराष्ट्र के आतंक रोधी दस्ते (एटीएस) ने आईपीसी की धारा 302 (हत्या), 201 (साक्ष्य मिटाने) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी.






वाहन के मालिक हीरेन मनसुख 5 मार्च को ठाणे में मृत पाए गए थे. इस सिलसिले में बाद में एनआईए ने मुंबई पुलिस के अधिकारी सचिन वाजे को गिरफ्तार किया था. मुंबई पुलिस ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा सहायक पुलिस निरीक्षक वाजे को 13 मार्च को गिरफ्तार किए जाने के बाद उन्हें 15 मार्च को निलंबित कर दिया था. वाजे हाल तक मुंबई पुलिस की अपराध शाखा की अपराध खुफिया इकाई से संबद्ध थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज