Home /News /bihar /

sadar hospital deputy superintendent resignation cctv footage doctors negligence nodaa

गोपालगंज सदर अस्पताल: ड्यूटी से नदारद डॉक्टरों पर मांगा गया था स्पष्टीकरण, पर डीएस ने सौंपा इस्तीफा

गोपालगंज सदर अस्पताल में मरीज की मौत के बाद हुई जांच में डॉक्टर को आरोपी बताया गया.

गोपालगंज सदर अस्पताल में मरीज की मौत के बाद हुई जांच में डॉक्टर को आरोपी बताया गया.

सिविल सर्जन ने कहा कि सदर अस्पताल के इमरजेंसी वॉर्ड में बीते 18 जून की रात मरीज की मौत के बाद परिजनों ने चिकित्सकीय लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा किया था और अस्पताल में तोड़फोड़ की थी. इस मामले में उपाधीक्षक डॉ. एसके गुप्ता से स्पष्टीकरण मांगा गया था. डॉ. गुप्ता ने स्पष्टीकरण देने के बजाय पद से इस्तीफा दे दिया.

अधिक पढ़ें ...

गोपालगंज. मॉडल सदर अस्पताल में मरीज की मौत के बाद हुई जांच में जब व्यवस्था की पोल खुली तो अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. एसके गुप्ता ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. सिविल सर्जन डॉ. बीरेंद्र प्रसाद ने बताया कि वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. शशि रंजन प्रसाद को नए उपाधीक्षक का प्रभार सौंपा गया है. उन्‍होंने कहा कि अस्पताल में मरीजों को बेहतर सुविधाएं मिले, इसपर तत्पर हैं. लापरवाही कोई भी करे, बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

सिविल सर्जन ने कहा कि सदर अस्पताल के इमरजेंसी वॉर्ड में बीते 18 जून की रात मरीज की मौत के बाद परिजनों ने चिकित्सकीय लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा किया था और अस्पताल में तोड़फोड़ की थी. इस मामले में उपाधीक्षक डॉ. एसके गुप्ता से स्पष्टीकरण मांगा गया था. डॉ. गुप्ता ने स्पष्टीकरण देने के बजाय पद से इस्तीफा दे दिया.

सीसीटीवी की जांच में खुलासा

स्वास्थ्य विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि हंगामा और तोड़फोड़ के बाद जब सदर एसडीएम प्रदीप कुमार जांच के लिए पहुंचे, तो उपाधीक्षक डॉ. एसके गुप्ता को बुलाया गया. डॉ. गुप्ता ने आने से इनकार कर दिया और कहा कि डॉक्टर ड्यूटी पर थे. मरीज के परिजन बेवजह आरोप लगा रहे हैं. एसडीएम ने जब अस्पताल और मृतक मरीज के परिजनों की बात सुनी तो सीसीटीवी के फुटेज देखने का निर्देश दिया. सीसीटीवी फुटेज में ड्यूटी से डॉक्टर नदारद पाए गए. तब उपाधीक्षक से स्पष्टीकरण मांगा गया था.

पहले भी नहीं दिया जवाब

सदर अस्पताल के उपाधीक्षक पद से इस्तीफा देनेवाले डॉ. एसके गुप्ता का विवादों से पुराना नाता है. अस्पताल की व्यवस्था सुधारने के बजाय वे विभागीय लापरवाहियों का बचाव करते हैं. विभागीय गड़बड़ियों को अपने अधिकारियों तक नहीं पहुंचाते थे. इस बार उन्होंने वरीय अधिकारियों के स्पष्टीकरण पर जवाब देने के बजाय इस्तीफा दे दिया.

यह है पूरा मामला

18 जून को सदर अस्पताल के इमरजेंसी वॉर्ड में थावे के पैठानपट्टी गांव के अली इमाम सांस की तकलीफ होने पर इलाज कराने पहुंचे थे. डॉक्टर ड्यूटी से गायब थे, डेढ़ घंटे बाद डॉक्टर पहुंचे, तबतक मरीज की मौत हो गई. इसके बाद परिजनों ने अस्पताल में तोड़फोड़ किया था. घटना की जांच करने पहुंचे सदर एसडीएम प्रदीप कुमार ने सीसीटीवी की जांच कर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया था. इसके बाद सीसीटीवी जांच हुई और हकीकत सामने आई.

Tags: Gopalganj news, Hospital

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर