तेलंगाना से पकड़ा गया महाराष्ट्र के नांदेड़ में साधु और सेवक की हत्या का आरोपी

साधु पशुपति महाराज की नांदेड़ के आश्रम में हत्या कर दी गई.
साधु पशुपति महाराज की नांदेड़ के आश्रम में हत्या कर दी गई.

महाराष्ट्र के पालघर में चोरी के शक में दो साधुओं की पीट-पीटकर हत्या का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि एक बार ​फिर महाराष्ट्र के नांदेड में एक आश्रम के अंदर साधु की हत्या कर दी गई.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के नांदेड़ के आश्रम में शनिवार देर रात लिंगायत समाज के एक साधु और उनके सेवक की हत्या का मामला सामने आया है. बताया जाता है कि साधु पशुपति महाराज का शव आश्रम में मिला है जबकि उनकी सेवा करने वाले सेवादार भगवान राम शिंदे का शव आश्रम से कुछ दूर पर पड़ा मिला है. बताया जा रहा है कि हत्यारोपी की पहचान साईनाथ लिंगाडे के रूप में हुई है, जिसे तेलंगाना से गिरफ्तार कर लिया गया है.

महाराष्ट्र के पालघर में चोरी के शक में दो साधुओं की पीट-पीटकर हत्या का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि एक बार ​फिर महाराष्ट्र के नांदेड़ में एक आश्रम के अंदर साधु की हत्या कर दी गई. पशुपति महाराज नांदेड के आश्रम में रहते थे. शनिवार देर रात 12 से 12.30 के बीच पशुपति महाराज की हत्या कर दी गई. सुबह ज​ब शिष्यों ने उन्हें आश्रम में मृत देखा तो तुरंत पुलिस को सूचना दी. घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने अभी जांच शुरू ही की थी कि किसी ने बताया कि आश्रम की सेवा करने वाले एक सेवादार भगवान राम शिंदे का शव गांव में आश्रम से कुछ ही दूरी पर मिला है.

पुलिस जांच में पता चला है कि हत्यारोपी साईनाथ रात के समय आश्रम में दाखिल हुआ था. हत्या को अंजाम देने के बाद वह साधु का शव अपने साथ ही ले जाना चाहता था. बताया जाता है कि जैसे ही साईनाथ साधु पशुपति महाराज का शव कार में रखकर बाहर निकलने लगा तभी उसकी कार दरवाजे में फंस गई. शोर की आवाज सुनकर छत पर सो रहे दो सेवादार जाग गए. उन्होंने साईनाथ को रोकने की कोशिश की लेकिन वह भाग निकला. उसे पकड़ने के लिए सेवादार भागे लेकिन वह फरार हो गया. पुलिस ने आरोपी साईनाथ को तेलंगाना से गिरफ्तार कर लिया है.



इसे भी पढ़ें :- साधुओं की लिंचिंग के मामले में 5 लोग और गिरफ्तार, अब तक 115 पकड़े गए
पालघर में दो साधुओं की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी
बता दें कि पालघर जिले में करीब 200 लोगों की भीड़ ने चोर होने के शक में तीन लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. बाद में इनमें से 2 लोगों के साधु होने की पुष्टि हुई, जबकि तीसरा शख्स ड्राइवर बताया गया. यह घटना उस समय हुई, जब गुरुवार रात ये लोग मुंबई (Mumbai) के कांदीवली से कार में सवार होकर गुजरात के सूरत जा रहे थे. घटना को लेकर विपक्ष, उद्धव सरकार पर लगातार हमलवार है.मृतकों की पहचान चिकने महाराज कल्पवृक्षगिरी (70), सुशीलगिरी महाराज (35) और चालक निलेश तेलगड़े (30) के रूप में की गई. महाराष्ट्र सरकार ने घटना की उच्च-स्तरीय जांच के आदेश दिए और ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में सोमवार को पालघर के दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया.

इसे भी पढ़ें :-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज