• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • अपने ही घर में मृत पाए गए साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता डॉ जी नंजुंदन

अपने ही घर में मृत पाए गए साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता डॉ जी नंजुंदन

डॉ नंजुंदन साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता साहित्यकार थे (फाइल फोटो)

पुलिस (Police) ने बताया कि उन्हें आशंका है कि 58 वर्षीय नंजुंदन की मौत दिल का दौरा (Heart Attack) पड़ने से करीब चार दिन पहले हुई होगी और उनकी सड़ी हुई लाश (Dead Body) नगादेवनहल्ली स्थित अपार्टमेंट में मिली है.

  • Share this:
    बेंगलुरु. प्रख्यात अनुवादक (Eminent Translator) और साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता (Sahitya Akademi Award Winner) डॉ. जी नंजुंदन (Dr G Nanjundan) शनिवार को बेंगलुरु स्थित अपने आवास पर मृत पाए गए.

    पुलिस ने बताया कि उन्हें आशंका है कि 58 वर्षीय नंजुंदन की मौत दिल का दौरा (Heart Attack) पड़ने से करीब चार दिन पहले हुई होगी और उनकी सड़ी हुई लाश (Dead Body) नगादेवनहल्ली स्थित अपार्टमेंट में मिली है.

    बेंगलुरु विश्वविद्यालय में सांख्यिकी के लेक्चरर भी थे नंजुंदन
    डॉ.नंजुंदन की ख्याति दर्जनों कन्नड़ किताबों को तमिल (Tamil) में अनुवाद करने की वजह से मिली. इन किताबों में ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता (Jnanpith Award Winner) यू आर अनंतमूर्ति (UR Ananthamurthy) की कृति ‘‘भाव’’ और ‘‘अवस्थे’’ शामिल है. उन्हें वर्ष 2012 में ‘‘अक्का’’ के लिए अकादमी अनुवाद पुरस्कार मिला. यह विभिन्न कन्नड़ लेखिकाओं की लघु कथा है जिसे उन्होंने तमिल में अनुवाद किया है.

    पुलिस के मुताबिक डॉ.नंजुंदन बेंगलुरु विश्वविद्यालय (Bengaluru University) में सांख्यिकी के व्याख्याता (Lecturer of Statistics) के रूप में कार्यरत थे और कई दिनों से पढ़ाने नहीं आए थे.

    सहायक आशंका के बाद देखने गया तो मिली सड़ी लाश
    पुलिस (Police) ने बताया कि जब उनके सहायक को आशंका हुई तो वह शुक्रवार को उन्हें देखने घर गया जहां से बदबू आ रही थी.

    पुलिस ने बताया कि सहायक ने तब इसकी जानकारी डॉ.नंजुंदन की पत्नी और बेटे को दी जो चेन्नई (Chennai) में रहते हैं. परिवार ने इसकी सूचना पुलिस को दी जिसके बाद दरवाजे को तोड़ा गया और वहां पर उनकी सड़ी हुई लाश (Dead Body) मिली. पुलिस अधिकारी ने ‘‘पीटीआई-भाषा’’से कहा, ‘‘आशंका है कि दिल का दौरा पड़ने की वजह से उनकी मौत हुई है.’’

    यह भी पढ़ें: कर्नाटक सरकार दो मृतकों के परिवारों को 10-10 लाख रुपये देगी मुआवजा

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज