Assembly Banner 2021

छत्तीसगढ़ नक्सली हमले के शहीदों को बताया 'वेतनभोगी पेशेवर', असम में लेखिका गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ के बीजापुर और सुकमा जिले की सीमा पर शनिवार को सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में सुरक्षा बल के 22 जवान शहीद हो गए. (Reuters/4 April 2021)

छत्तीसगढ़ के बीजापुर और सुकमा जिले की सीमा पर शनिवार को सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में सुरक्षा बल के 22 जवान शहीद हो गए. (Reuters/4 April 2021)

Chattisgarh Naxal Attack: इस पोस्ट के सामने आने के बाद ही सोमवार को गुवाहाटी हाईकोर्ट (Guahati High Court) के दो वकीलों- उमी डेका और कांगकना गोस्वामी ने दिसपुर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई थी.

  • Share this:
दिसपुर. असम के गुवाहाटी में एक 48 साल की लेखिका को फेसबुक पोस्ट (Facebook Post) के चलते गिरफ्तार किया गया है. शिखा शर्मा नाम की इस लेखिका ने हाल ही में छत्तीसगढ़ में हुए बड़े माओवादी हमले (Maoist Attack) में जान गंवाने वालों को शहीद बोलने पर सवाल उठाया था. सोशल मीडिया पर इस पोस्ट की यूजर्स ने जमकर आलोचना की थी. अपनी पोस्ट में शर्मा ने हमले में शहीद हुए जवानों को 'वेतनभोगी पेशेवर' बताया था. इस हमले में 22 जवान शहीद हो गए थे.

अपनी फेसबुक पोस्ट में शर्मा मीडिया से ड्यूटी के दौरान मारे गए 'वेतनभोगी पेशेवरों' के साथ शहीद शब्द का इस्तेमाल नहीं करने की बात कह रही हैं. द इंडियन एक्स्प्रेस के अनुसार, उन्होंने लिखा 'ड्यूटी के दौरान मारे गए वेतनभोगी पेशेवरों को शहीद नहीं कहा जा सकता. इस तर्क के आधार पर बिजली विभाग के कर्मियों को भी शहीद कहा जाना चाहिए.'

यह भी पढ़ें: फोर्स के लिए क्यों और कैसे पहेली बना नक्सली मास्टरमाइंड हिड़मा?



Youtube Video

इस पोस्ट के सामने आने के बाद ही सोमवार को गुवाहाटी हाईकोर्ट के दो वकीलों- उमी डेका और कांगकना गोस्वामी ने दिसपुर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई थी. साथ ही लेखिका के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई थी. गुवाहाटी पुलिस आयुक्त मुन्ना प्रसाद गुप्ता ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि शर्मा को राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया है. उन्हें 8 अप्रैल को अदालत में पेश किया जाएगा. खास बात है कि ऑल इंडिया रेडियो के लिए काम करने वाली शर्मा को बीते साल सरकार के खिलाफ बोलने पर बलात्कार की धमकियां मिली थीं.

छत्तीसगढ़ के सुकमा-बीजापुर में हुए नक्सली हमले में कम से कम 22 जवानों की मौत हो गई थी. रिपोर्ट्स बताती हैं कि यह हमला बीजापुर और सुकमा जिले के बीच सीमा के पास हुआ है. समाचार एजेंसी भाषा के अनुसार, मृतकों में सीआरपीएफ के कोबरा बटालियन के सात जवान, सीआरपीएफ के बस्तरिया बटालियन का एक जवान, डीआरजी के आठ जवान और एसटीएफ के छह जवान शामिल हैं. वहीं एक जवान अभी भी लापता है. लापता जवान की तलाश की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज