Home /News /nation /

बिहार में फर्जी चिट्ठी की मदद से माफिया को बेच दिया स्टीम इंजन, सिपाही की रिपोर्ट में हुआ खुलासा

बिहार में फर्जी चिट्ठी की मदद से माफिया को बेच दिया स्टीम इंजन, सिपाही की रिपोर्ट में हुआ खुलासा

स्टीम इंजन की फाइल फोटो (www.moneycontrol.com)

स्टीम इंजन की फाइल फोटो (www.moneycontrol.com)

RPF दरोगा एमएम रहमान के बयान पर मंडल के बनमनकी पोस्ट पर FIR दर्ज की गई है. इसमें इंजीनियर राजीव रंजन झा, हेल्पर सुशील यादव समेत सात लोग आरोपी बनाए गए हैं. वहीं DRM अशोक अग्रवाल के आदेश पर इंजीनियर और हेल्पर के अलावा डीजल शेड पोस्ट पर तैनात दरोगा वीरेंद्र द्विवेदी को सस्पेंड कर दिया गया है.

अधिक पढ़ें ...

    पटना. बिहार के समस्तीपुर (Samastipur) में रेलवे (Indian Railway) से जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है जिसके बारे में जानकर हर कोई हैरान है. यहां एक इंजीनियर ने डिवीजन मैकेनिकल इंजीनियर (DME) का फर्जी आदेश दिखा कर माफिया को इंजन ही बेच दिया. यह इंजन पुराने जमाने का स्टीम इंजन था और पूर्णिया कोर्ट स्टेशन (Purnea Court Station) के पास छोटी लाइन पर सालों से खड़ा था. मामला सामने ना आए इसके लिए डीजल शेड पोस्ट पर एक दरोगा की मदद से शेड के एंट्री रजिस्टर में एक पिकअप वैन के एंट्री करा दी हालांकि सिपाही संगीता कुमारी की रिपोर्ट के बाद इस मामले में जांच शुरू हुई और तब सब सामने आया.

    RPF दरोगा एमएम रहमान के बयान पर मंडल के बनमनकी पोस्ट पर FIR दर्ज की गई है. इसमें इंजीनियर राजीव रंजन झा, हेल्पर सुशील यादव समेत सात लोग आरोपी बनाए गए हैं. वहीं DRM अशोक अग्रवाल के आदेश पर इंजीनियर और हेल्पर के अलावा डीजल शेड पोस्ट पर तैनात दारोगा वीरेंद्र द्विवेदी को सस्पेंड कर दिया गया है. एफआईआर दर्ज होने के बाद फरार चल रहे इंजीनियर की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम लगातार छापेमारी कर रही है.

    क्या है पूरा मामला?
    हिन्दी दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट के अनुसार 14 दिसंबर 2021 को समस्तीपुर डीजल शेड के इंजीनियर राजीव रंजन झा, हेल्पर सुनील यादव के साथ गैसकटर की मदद से स्टीम इंजन को कटवा रहे थे. इस दौरान जब RPF अधिकारी रहमान ने रोका तो उन्होंने वह फर्जी पत्र दिखाया और RPF को लिखित मेमो दिया कि इंजन का कबाड़, डीजल शेड में वापस ले जाना है. अगले दिन सिपाही संगीता ने स्कैप लोड पिकअप की एंट्री तो देखी लेकिन स्क्रैप नहीं था. इसकी जानकारी संगीता ने अधिकारियों को दी.

    रिपोर्ट के अनुसार RPF ने मामले की पूछताछ की जिसमें पता चला कि ऐसा कोई आदेश जारी ही नहीं हुआ. मंडल सुरक्षा आयुक्त एके लाल ने कहा, ‘डीजल शेड से जारी चिट्ठी की जांच शुरू हुई तो पता चला कि शेड ने ऐसी कोई भी चिट्ठी जारी करने से इनकार किया. दो दिनों तक स्क्रैप लोड की जानकारी नहीं मिली तब FIR दर्ज कराई गई.’

    Tags: Indian railway, Purnia news, Samastipur news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर