सीबीआई में झगड़े की जड़ रहे सना सतीश बाबू को ED ने मोइन कुरैशी केस में किया गिरफ्तार

सना सतीश बाबू ने सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर रहे राकेश अस्थाना पर पांच करोड़ रुपये रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था.

News18Hindi
Updated: July 27, 2019, 10:23 AM IST
सीबीआई में झगड़े की जड़ रहे सना सतीश बाबू को ED ने मोइन कुरैशी केस में किया गिरफ्तार
मोइन कुरैशी मामले में सना सतीश बाबू को ED ने दिल्ली से किया गिरफ्तार
News18Hindi
Updated: July 27, 2019, 10:23 AM IST
मोइन कुरैशी केस में प्रवर्तन निदेशायल (ईडी) ने शनिवार सुबह सना सतीश बाबू को गिरफ्तार कर लिया. सना सतीश बाबू ने सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर रहे राकेश अस्थाना पर पांच करोड़ रुपये रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था. इस आरोप के चलते ही सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा ने राकेश अस्थाना और अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी.

मामला सामने आने के बाद राकेश अस्थाना ने बताया था कि सना सतीश बाबू मोइन कुरैशी के भ्रष्टाचार का हिस्सा था. हैदराबाद के व्यवसायी सतीश बाबू पर मोइन कुरैशी से 50 लाख रुपये लेने का आरोप है. इससे साफ हो गया है कि सीवीसी और पीएमओ के सामने राकेश अस्थाना ने जो शिकायत की थी वो वास्तविक थी.

alok verma, CBI, DELHI HIGH COURT, rakesh asthana, Enforcement Directorate

कौन है मोइन अख्तर कुरैशी

मोइन अख्तर कुरैशी उत्तर प्रदेश के कानपुर का रहने वाला है और उसने अपने कारोबार की शुरुआत साल 1993 में रामपुर के एक छोटे से बूचड़खाने से की थी. देखते ही देखते मोईन देश का सबसे बड़ा मांस कारोबारी बन बैठा. पिछले 25 वर्षों में उसने निर्माण और फैशन समेत कई सेक्टरों में 25 से ज्यादा कंपनियां खड़ी कर लीं. उसने अपनी पढ़ाई दून स्कूल और सेंट स्टीफेंस से की थी. उसके खिलाफ टैक्स चोरी, मनी लॉन्ड्रिंग और भ्रष्टाचार में शामिल होने के कई आरोप लगे और जांच हुई. इसके साथ-साथ उसने हवाला के जरिए बड़ा लेनदेन किया. उस पर सीबीआई अफसरों, राजनेताओं समेत कई अधिकारियों को रिश्वत देने के भी आरोप लगे.

alok verma, CBI, DELHI HIGH COURT, rakesh asthana, Enforcement Directorate

2014 में आया विवादों में
Loading...

कुरैशी का नाम सबसे पहले 2014 में सामने आया, जब यह पता चला कि 15 महीने में कुरैशी कम से कम 70 बार तत्कालीन सीबीआई चीफ रंजीत सिन्हा के घर पर गया था. आलोक वर्मा और अस्थाना के बीच मौजूदा विवाद में हैदराबाद के बिजनसमैन सतीश बाबू सना का नाम भी सामने आया है. सना ने पिछले साल ED को कथित तौर पर बताया था कि उसने सिन्हा के जरिए एक सीबीआई केस में फंसे अपने दोस्त को जमानत दिलाने के लिए 1 करोड़ रुपये कुरैशी को दिए थे. आरोपी या संदिग्ध के साथ मीटिंग करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सिन्हा को कड़ी फटकार लगाई थी. सिन्हा 2012 से 2014 तक एजेंसी के चीफ रहे और वह लगातार सभी आरोपों से इनकार करते रहे.
First published: July 27, 2019, 8:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...