संजय झा कांग्रेस प्रवक्ता पद से हटाए गए, पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र का बताया था अभाव

संजय झा कांग्रेस प्रवक्ता पद से हटाए गए, पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र का बताया था अभाव
बता दें कि संजय झा (Sanjay Jha) ने पिछले दिनों एक लेख के माध्यम से पार्टी की कार्यशैली (Work Culture) पर सवाल खड़े किए थे. उन्होंने यह भी कहा था कि पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र (Internal Democracy) का अभाव है.

बता दें कि संजय झा (Sanjay Jha) ने पिछले दिनों एक लेख के माध्यम से पार्टी की कार्यशैली (Work Culture) पर सवाल खड़े किए थे. उन्होंने यह भी कहा था कि पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र (Internal Democracy) का अभाव है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 17, 2020, 11:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस पार्टी (Congress Party) की ओर से जारी बयान के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने झा को तत्काल प्रभाव से हटाए जाने को मंजूरी दी. इसके साथ ही अभिषेक दत्त और साधना भारती को कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया पैनलिस्ट (National Media Panelist) नियुक्त किया गया है.

गौरतलब है कि झा ने पिछले दिनों एक लेख के माध्यम से पार्टी की कार्यशैली (Work Culture) पर सवाल खड़े किए थे. उन्होंने यह भी कहा था कि पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र (Internal Democracy) का अभाव है. यह भी बता दें कि कुछ दिनों पहले संजय झा को कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण हो गया था. और उन्होंने खुद ही ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी थी. हालांकि अब वे कोरोना के संक्रमण से उबर चुके हैं.

उधर, कांग्रेस ने कर्नाटक विधान परिषद चुनाव के लिए बीके हरि प्रसाद और नसीर अहमद को अपना उम्मीदवार बनाया है.





ऐसा है संजय झा का अतीत, इस तरह चढ़े थे कांग्रेस में सीढ़ियां
पार्टी (Party) के भीतर पूछताछ और आत्मनिरीक्षण की कमी पर सवाल उठाने के साथ कांग्रेस प्रवक्ता (Congress spokesperson) संजय झा (Sanjay Jha) ने नियुक्तियों पर भी सवाल उठाये थे.

इस पर News18 की पत्रकार पल्लवी घोष ने एक लेख में लिखा था कि इसके साथ ही संजय झा उन कुछ कांग्रेसी नेताओं (Congress Leaders) की सूची में शामिल हो गये थे, जिन्हें लगता था कि पार्टी के भीतर की जड़ता इसके अंत की वजह बनेगी. उनके सवालों को पार्टी के भीतर ही खारिज कर दिया गया. लेकिन निजी तौर (Personally) पर, कई लोग उनसे सहमत हैं

अपने लेख में उन्होंने बताया था कि संजय झा पार्टी में मुख्यधारा के जमीनी नेता नहीं रहे हैं. वे मुंबई में रहने वाले और एक व्यापारी हैं, जो कई अमेरिकी कंपनियों के साथ काम करते थे और यहां तक ​​कि अमेरिका (America) में रहते थे. ऐसे झा ने तेजी से तरक्की की और जल्द ही ऑल इंडिया प्रोफेशनल्स कांग्रेस के अध्यक्ष बन गए. जिसका विचार कांग्रेस को पेशेवरों और कॉर्पोरेट क्षेत्र से जोड़ने का था, जिन्होंने पार्टी से मुंह मोड़ लिया था.

(भाषा के इनपुट सहित)

यह भी पढ़ें: भारत-चीन तनाव पर आरएसएस के वरिष्ठ प्रचारक इंद्रेश कुमार ने कही ये बड़ी बात
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज