Home /News /nation /

मोहन भागवत के बयान पर संजय राउत का तंज, कहा- केंद्र में तो बीजेपी की है सरकार

मोहन भागवत के बयान पर संजय राउत का तंज, कहा- केंद्र में तो बीजेपी की है सरकार

संजय राउत ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना. (File pic)

संजय राउत ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना. (File pic)

शिवसेना (Shiv Sena) नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा- 'पीएम ने कहा था कि नोटबंदी के बाद आतंकवाद (Terrorism) और ड्रग माफियाओं (Drug Mafia) पर पूरी तरह से रोक लग जाएगी. केंद्र में तो बीजेपी की सरकार है, ऐसे में वह नशीले पदार्थों पर रोक क्‍यों नहीं लगा पा रही है.'

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) के नशीले पदार्थों वाले बयान पर शिवसेना (Shiv Sena) नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने मोदी सरकार पर हमला बोला है. राउत ने कहा कि पीएम ने कहा था कि नोटबंदी के बाद आतंकवाद और ड्रग माफियाओं पर पूरी तरह से रोक लग जाएगी. केंद्र में तो बीजेपी की सरकार है, ऐसे में वह नशीले पदार्थ पर रोक क्‍यों नहीं लगा पा रही है.

    आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने बयान पर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, ‘अगर वह कुछ कह रहे हैं तो इसका महत्व है, लेकिन अगर देश के खिलाफ नशीले पदार्थों के पैसे का इस्तेमाल किया जा रहा है तो सरकार का नेतृत्व कौन कर रहा है? पीएम ने कहा था कि आतंकवादियों, ड्रग माफिया को पैसा नोटबंदी से बंद हो जाएगा. क्‍या ऐसा हुआ है.’

    Rashtriya Swayamsevak Sangh, Mohan Bhagwat, Shiv Sena, Sanjay Raut, Narcotics, Drug Mafia, Terrorism

    बता दें कि मोहन भागवत ने देश में बढ़ रही नशे की लत पर चिंता व्यक्त की है. उन्‍होंने कहा कि
    ओटीटी प्‍लेटफॉर्म पर कुछ भी दिखाया जा रहा है. इस पर किसी का कोई नियंत्रण नहीं है. कोरोना के बाद बच्‍चों के पास भी फोन आ गया है. वो जब चाहें तब मोबाइल पर कुछ भी देख सकते हैं. देश में तरह-तरह के नशीले पदार्थों का प्रयोग बढ़ रहा है, इसे कैसे रोका जाए, पता नहीं?

    उन्होंने कहा कि देश के हर एक वर्ग तक, समाज के आखिरी आदमी तक भयंकर नशे की लत है. नशे के कारोबार से आने वाले पैसे का इस्‍तेमाल राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में किया जाता है. सीमा पार के देश उसे प्रोत्साहन दे रहे हैं. देश में आतंकवादी गतिविधियां बढ़ रही हैं.

    जनसंख्या नीति पर बोले भागवत
    सरसंघचालक ने कहा, ‘अपने मत, पंथ, जाति, भाषा, प्रान्त आदि छोटी पहचानों के संकुचित अहंकार को हमें भूलना होगा.’ उन्होंने कहा कि COVID-19 की दूसरी लहर पहली की तुलना में कहीं अधिक विनाशकारी थी. इसने युवाओं को भी नहीं बख्शा. महामारी से उत्पन्न गंभीर स्वास्थ्य खतरों के बावजूद मानव जाति की सेवा में निस्वार्थ भाव से समर्पित नागरिकों के प्रयास प्रशंसनीय हैं. उन्होंने कहा कि जनसंख्या नीति पर एक बार फिर विचार करना चाहिए. अगले 50 वर्षों के लिए नीति बनानी चाहिए और इसे समान रूप से लागू किया जाना चाहिए. जनसंख्या असंतुलन एक समस्या बन गई है.

    Tags: Mohan bhagwat, Narcotics, Rashtriya Swayamsevak Sangh, Sanjay raut, Shiv sena, Terrorism

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर