होम /न्यूज /राष्ट्र /यह शख्‍स हो सकता है पहला भारतीय अंतरिक्ष पर्यटक, जल्‍द सफर पर जाने की संभावना

यह शख्‍स हो सकता है पहला भारतीय अंतरिक्ष पर्यटक, जल्‍द सफर पर जाने की संभावना

संतोष जॉर्ज जल्‍द जा सकते हैं अंतरिक्ष की यात्रा पर. (Pic- Social Media)

संतोष जॉर्ज जल्‍द जा सकते हैं अंतरिक्ष की यात्रा पर. (Pic- Social Media)

Space Tourism: पिछले दिनों अमेजॉन (Amazon) के संस्‍थापक जेफ बेजोज (Jeff Bezos) और वर्जिन गैलैक्टिक के रिचर्ड ब्रांसन (R ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्‍ली. अंतरिक्ष (Space Tourism) हमेशा से ही कौतूहल का विषय रहा है. पिछले दिनों अमेजॉन (Amazon) के संस्‍थापक जेफ बेजोज (Jeff Bezos) और वर्जिन गैलैक्टिक के रिचर्ड ब्रांसन (Richard Branson) अंतरिक्ष की सैर करके वापस लौटे हैं. ऐसे में अब स्‍पेस टूरिज्‍म की राह और आसान दिख रही है. दुनिया भर के कुछ लोग स्‍पेस टूरिज्‍म को लेकर उत्‍साहित हैं. इन्‍हीं में से एक हैं भारत के संतोष जॉर्ज कुलंगरा (Santosh George Kulangara). माना जा रहा है कि वह भी जल्‍द ही अंतरिक्ष की सैर कर सकते हैं. ऐसा करने वाले वह पहले भारतीय होंगे.

    49 साल के संतोष अब तक 130 देशों में घूम चुके हैं. उन्‍होंने अंतरिक्ष घूमने के लिए अपनी सीट 2007 में ही बुक कर दी थी. उन्‍होंने यह सीट वर्जिन गैलेक्टिक में बुक की है. अब संतोष का कहना है कि वर्जिन गैलेक्टिक के रिचर्ड ब्रांसन की अंतरिक्ष यात्रा इस बात को दर्शाती है कि अब जल्‍द ही अंतरिक्ष के लिए कमर्शियल फ्लाइट भी शुरू हो सकती हैं.

    उनका कहना है कि लोगों को नहीं पता है कि पृथ्‍वी अगले 100 साल रहने के लिए सुरक्षित जगह है या नहीं. जलवायु परिवर्तन और महामारी इस दिशा में बड़े संकेतक हैं. ऐसे में दूसरे ग्रहों पर कॉलोनी बसाने का काम जल्‍द शुरू हो सकता है. संतोष का कहना है कि वह इस साल के अंत तक या अगले साल की शुरुआत में अंतरिक्ष की सैर कर सकते हैं.

    संतोष ने अंतरिक्ष की सैर के लिए अपनी सीट 2007 में करीब ढाई लाख डॉलर में बुक की थी. तब लोगों को इस प्रोजेक्‍ट के बारे में कम ही पता था. उनका कहना है, 'उस समय कमर्शियल स्‍पेस फ्लाइट की कल्‍पना दूर की बात थी. मैं तबसे ही इसका इंतजार कर रहा हूं.'

    संतोष का कहना है कि वह अंतरिक्ष में जाने के लिए अमेरिका स्थित वर्जिन गैलेक्टिक के स्‍पेसपोर्ट में ट्रेनिंग ले चुके हैं. इस ट्रेनिंग का खर्च ढाई लाख डॉलर से अतिरिक्‍त है. संतोष को साप्‍ताहिक तौर पर प्रोजेक्‍ट की जानकारी दी जाती है. उनका कहना है, 'एक फ्लाइट में सिर्फ चार लोग ही अंतरिक्ष की सैर कर सकते हैं. उनका चुनाव विभिन्‍न मानदंडों के आधार पर होगा. मैं जानता हूं कि मैं शुरुआती स्‍पेस फ्लाइट का हिस्‍सा बनूंगा.'

    Tags: Space tourism

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें