Saradha Scam: मुंबई के 6 ठिकानों पर CBI का छापा, सेबी के तीन अधिकारी भी जांच के घेरे में

सीबीआई मुख्यालय. (फाइल फोटो)

सीबीआई मुख्यालय. (फाइल फोटो)

Saradha Scam: रिपोर्ट के मुताबिक, पश्चिम बंगाल के कोलकाता स्थित सेबी ऑफिस में 2009 से 2013 के दौरान नियुक्ति की वजह से इन अधिकारियों की भूमिका जांच के दायरे में है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2021, 4:20 PM IST
  • Share this:
मुंबई. केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने सोमवार को सारदा घोटाला (Saradha Scam) मामले में देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के छह ठिकानों पर छापे मारे. समाचार एजेंसी एएनआई ने यह जानकारी दी है. जिन छह ठिकानों पर छापे मारे गए हैं, उनमें भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) के तीन वरिष्ठ अधिकारियों के आवास और कार्यालय परिसर भी शामिल हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, पश्चिम बंगाल के कोलकाता स्थित सेबी ऑफिस में 2009 से 2013 के दौरान नियुक्ति की वजह से इन अधिकारियों की भूमिका जांच के दायरे में है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी, लेकिन इन तीन अधिकारियों के नाम उजागर नहीं किए.

दूसरी ओर, करोड़ों रुपये के सारदा घोटाले में धनशोधन पहलू की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 18 मार्च को पश्चिम बंगाल के जोरासांको विधानसभा क्षेत्र से तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार विवेक गुप्ता को तलब किया. सूत्रों ने बताया कि गुप्ता को 22 मार्च को ईडी अधिकारियों के सामने पेश होने को कहा गया है.

Youtube Video


सूत्रों ने बताया कि व्यापारी स्वपन साधन बोस को सारदा घोटाले के सिलसिले में पेशी का निर्देश दिया गया था, लेकिन वह अब तक कोलकाता के सीजीओ परिसर नहीं पहुंचे. सूत्रों के अनुसार इसी घोटाले के सिलसिले में तृणमूल कांग्रेस के पूर्व मंत्री मदन मित्रा को 19 मार्च को निदेशालय के सामने पेश होने को कहा गया था. इससे पहले गुप्ता को सीबीआई की आर्थिक अपराध शाखा ने वित्तीय लेन-देन के सिलसिले में तलब किया था, जो उनके और सारदा समूह के बीच कथित रूप से हुआ था.
पश्चिम बंगाल में शारदा समूह के खिलाफ कई प्राथमिकी दर्ज हैं. इनमें आरोप लगाया गया है कि

शारदा समूह के अधिकारियों और उनके सहयोगियों ने अपनी जाली योजनाओं में निवेश पर उच्च रिटर्न का वादा करके हजारों निवेशकों के साथ धोखाधड़ी की. उच्चतम न्यायालय ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी और राज्य सरकार के अधिकारियों को मामले की जांच के लिए एजेंसी के जांच दल की हर मदद करने का निर्देश दिया था. प्रवर्तन निदेशालय इस घोटाले के धनशोधन पहलू की जांच कर रहा है.

(इनपुट भाषा से भी)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज