Assembly Banner 2021

साड़ी शालीनता का प्रतीक, ममता बनर्जी ने किया बंगाली संस्कृति का अपमान-दिलीप घोष

पुरुलिया में घोष की तरफ से आए बरमूडा वाले बयान की तृणमूल कांग्रेस ने कड़ी आलोचना की थी. (फाइल फोटो)

पुरुलिया में घोष की तरफ से आए बरमूडा वाले बयान की तृणमूल कांग्रेस ने कड़ी आलोचना की थी. (फाइल फोटो)

West Bengal Election: खड़गपुर में न्यूज18 से बातचीत में दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने कहा, 'पश्चिम बंगाल में हमारी माताएं और बहनें साड़ी पहनती हैं. साड़ी शालीनता का प्रतीक है. लेकिन यह सही नहीं है कि कोई साड़ी पहनकर बार-बार जानबूझकर अपना पैर दिखाए.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 3:32 PM IST
  • Share this:
अमन शर्मा


कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रमुख दिलीप घोष ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को लेकर दिए बयान पर सफाई दी है. न्यूज18 से खास बातचीत में उन्होंने कहा है कि ममता बनर्जी ने साड़ी पहने हुए पैर दिखाकर पश्चिम बंगाल की संस्कृति का अपमान किया है. इससे पहले घोष ने पुरुलिया में कहा था कि अगर बनर्जी पैर दिखाना चाहती हैं, तो उन्हें बरमूडा पहनना चाहिए, साड़ी नहीं. उनके इस बयान के बाद बंगाल और देश के राजनीतिक गलियारों में चर्चा का दौर शुरू हो गया था.

खड़गपुर में न्यूज18 से बातचीत में घोष ने कहा, 'पश्चिम बंगाल में हमारी माताएं और बहनें साड़ी पहनती हैं. साड़ी शालीनता का प्रतीक है. लेकिन यह सही नहीं है कि कोई साड़ी पहनकर बार-बार जानबूझकर अपना पैर दिखाए.' घोष ने कहा 'यहां तक कि महिलाओं को भी यह पसंद नहीं आ रहा है. मैंने इस पर सवाल उठाया है.... यह बंगाल की संस्कृति में सही नहीं लगता है.' इस दौरान उन्होंने कहा, 'सीएम बंगाली संस्कृति को लेकर तमाम बातें करती हैं... हम सीएम से ऐसे व्यवहार की उम्मीद नहीं करते हैं.'
उन्होंने कहा, 'मेरा बयान महिलाओं का अपमान नहीं था. बल्कि उन्होंने हमारी संस्कृति का अपमान किया था और मैंने इसका विरोध किया था. यहां कोई विवाद नहीं और कोई सफाई की जरूरत नहीं है. मैंने यह जनसभा में कहा था.' इस दौरान उन्होंने राज्य में बीजेपी की बड़ी जीत का दावा किया है. घोष ने कहा, 'सीएम के लिए कोई हमदर्दी नहीं है... उन्होंने महिलाओं का अपमान किया है. वो हमदर्दी बटोरने की कोशिश कर रहीं हैं, लेकिन उन्हें बीते 10 सालों का हिसाब देना होगा. लेकिन उन्होंने इसे छोड़ दिया और नाटक करना शुरू कर दिया.'



यह भी पढ़ें: दिलीप घोष कौन हैं, जिन्होंने ममता बनर्जी को दी बरमूडा पहनने की सलाह

पुरुलिया में घोष की तरफ से आए बरमूडा वाले बयान की तृणमूल कांग्रेस ने कड़ी आलोचना की थी. पार्टी ने कहा था कि ये असंवेदनशील है और महिलाओं का अपमान है. कहा जा रहा है कि पार्टी इस मामले में चुनाव आयोग से शिकायत कर सकती है. दरअसल, कुछ हफ्तों पहले सीएम बनर्जी नंदीग्राम में चुनाव प्रचार के दौरान घायल हो गईं थीं. उन्हें बाद में अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां से उन्हें कुछ दिनों बाद छुट्टी दे दी गई थी.

10 मार्च को नंदीग्राम में लगी चोट को ममता बनर्जी ने बीजेपी की तरफ से 'जानबूझकर हमला' बताया था. वहीं, बीजेपी इसे हादसा बता रही थी. कहा गया था कि कार का दरवाजा बंद होने के कारण सीएम चोटिल हो गईं थीं, लेकिन वो इसे लोगों की हमदर्दी बटोरने के लिए इस्तेमाल कर रही थीं. अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वो व्हीलचेयर पर प्रचार कर रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज