Assembly Banner 2021

चीन-पाकिस्‍तान की हरकतों पर भारत की पैनी नजर, सैटेलाइट से होगी रियल टाइम निगरानी

भारत 28 मार्च को लॉन्च करेगा सैटेलाइट (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

भारत 28 मार्च को लॉन्च करेगा सैटेलाइट (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

Satellite Launch: जीआईएसएटी -1 को आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले में श्रीहरिकोटा अंतरिक्षयान से जीएसएलवी-एफ 10 रॉकेट द्वारा चेन्नई से लगभग 100 किलोमीटर उत्तर में अंतरिक्ष में ले जाया जाएगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. सीमावर्ती क्षेत्रों की निगरानी के लिए भारत 28 मार्च को एक सैटेलाइट लॉन्च करने जा रहा है. इसके जरिए बॉर्डर पर रियल टाइम तस्वीरें मिल सकेंगी और प्राकृतिक आपदाओं को भी मॉनीटर किया जा सकता है. जीआईएसएटी -1 (GSIT-1) को आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के नेल्लोर (Nellore) जिले में श्रीहरिकोटा (Sriharikota) अंतरिक्षयान से जीएसएलवी-एफ 10 रॉकेट द्वारा चेन्नई से लगभग 100 किलोमीटर उत्तर से अंतरिक्ष में ले जाया जाएगा. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के बेंगलुरु स्थित मुख्यालय के एक अधिकारी ने रविवार को कहा, "हम इस जियो इमेजिंग उपग्रह को 28 मार्च को मौसम की स्थिति के आधार पर लॉन्च करना चाहते हैं." भारत इस सैटेलाइट के लॉन्‍च होने के बाद चीन और पाकिस्‍तान की हरकतों पर रियल टाइम निगरानी रख पाएगा.

रॉकेट अंतरिक्ष यान को जियोसिंक्रोनस कक्षा में रखेगा. इसे बाद में भूस्थैतिक कक्षा में रखा जाएगा, जो कि पृथ्वी के भूमध्य रेखा से लगभग 36,000 किलोमीटर ऊपर है, इसका ऑनबोर्ड प्रोपल्शन सिस्टम है. जीएसएटी -1 ऑनबोर्ड जीएसएलवी-एफ 10 रॉकेट का प्रक्षेपण मूल रूप से पिछले साल 5 मार्च को किया गया था, लेकिन तकनीकी कारणों से ब्लास्ट ऑफ से एक दिन पहले स्थगित कर दिया गया था.

ये भी पढ़ें- शुभेंदु अधिकारी बोले- TMC सत्‍ता में आई तो बंगाल कश्‍मीर बन जाएगा, उमर अब्दुल्ला ने कसा तंज



गेम चेंजर साबित होगा ये लॉन्च
विशेषज्ञों ने कहा कि भूस्थैतिक कक्षा में अत्याधुनिक फुर्तीली पृथ्वी अवलोकन उपग्रह की स्थिति के प्रमुख फायदे हैं. अंतरिक्ष विभाग के एक अधिकारी ने कहा, "यह भारत के लिए कुछ मायने में गेम-चेंजर बनने जा रहा है." उन्होंने कहा कि "ऑनबोर्ड उच्च रिज़ॉल्यूशन कैमरों के साथ, उपग्रह देश को भारतीय भूमि द्रव्यमान और महासागरों, विशेष रूप से इसकी सीमाओं की निरंतर निगरानी करने की अनुमति देगा." मिशन के उद्देश्यों को सूचीबद्ध करते हुए, इसरो ने पहले कहा था कि उपग्रह लगातार अंतराल पर ब्याज के बड़े क्षेत्र के क्षेत्र के वास्तविक समय की इमेजिंग प्रदान करेगा.

यह प्राकृतिक आपदाओं, एपिसोडिक और किसी भी अल्पकालिक घटनाओं की त्वरित निगरानी में मदद करेगा. इसका तीसरा उद्देश्य कृषि, वानिकी, खनिज विज्ञान, आपदा चेतावनी, क्लाउड गुण, हिम और ग्लेशियर और समुद्र विज्ञान के वर्णक्रमीय हस्ताक्षर प्राप्त करना है. इसरो ने कहा कि जीआईएसएटी -1 भारतीय उपमहाद्वीप के वास्तविक समय के अवलोकन की सुविधा प्रदान करेगा.

ये भी पढ़ें- BJP में शामिल होते ही मिथुन बोले- मैं असली कोबरा हूं.. डसूंगा तो फोटो बन जाओगे

सूत्रों के अनुसार, जीआईएसएटी -1 का अनुसरण लघु उपग्रह लॉन्च वाहन, इसरो के कॉम्पैक्ट लॉन्चर की पहली उड़ान, अप्रैल में होने की संभावना है. एसएसएलवी को एक समर्पित और सवारी-शेयर मोड में छोटे उपग्रहों के लिए लागत प्रभावी तरीके से "लॉन्च ऑन डिमांड" आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज