लाइव टीवी

सेना का फरमान-हनीट्रैप से बचने के लिए सैनिक वॉट्सएप पर न करें ये काम, अधिकारी से कहा, फेसबुक अकाउंट डिएक्टिवेट करो

Sandeep Bol | News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 10:17 PM IST
सेना का फरमान-हनीट्रैप से बचने के लिए सैनिक वॉट्सएप पर न करें ये काम, अधिकारी से कहा, फेसबुक अकाउंट डिएक्टिवेट करो
सेना ने अक्टूबर के पहले सप्ताह में इससे संबंध में एक एडवाइज़री जारी की थी.

सूत्रों के अनुसार, भारतीय सेना (Indian Army) ने बढ़ते हनीट्रेप (Honey Trap) के बढ़ते मामलों को देखकर अपने जवानों और अधिकारियों (Army Personal) को सतर्क किया है साथ ही उनके लिए एक नया फरमान जारी किया है. इसमें एक अधिकारी से उसके फेसबुक (Facebook) अकाउंट को डिएक्टिवेट करने को भी कहा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 10:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सेना में सैनिकों को हनीट्रैप के जरिए फंसाने के बढ़ते मामले के बाद सतर्क हुई सेना ने अपने सैनिकों और अधिकारियों के लिए नया फरमान जारी किया है. सूत्रों के अनुसार, भारतीय सेना ने सैन्य अधिकारियों और सैनिकों को नई एडवाइज़री जारी की है. भारतीय सेना के एक अधिकारी को जो बड़े पद पर तैनात हैं, उन्हें अपना फेसबुक अकाउंट डिएक्टीवेट करने का फरमान जारी किया है.

सेना ने अपने फरमान में वॉट्सएप जैसी मैसेजिंग एप पर किसी भी तरह के ऑफिशियल कम्यूनिकेशन करने से पाबंदी लगाई है. सेना के साइबर क्राइम ग्रुप ने सोशल मीडिया ट्रेंड पर बाकायदा
जांच और पड़ताल के बाद ये सिफ़ारिश की है. इससे पहले सेना ने अक्टूबर के पहले सप्ताह में इससे संबंध में एक एडवाइज़री जारी की है.

150 सोशल मीडिया प्रोफाइल की पहचान

सेना ने 150 सोशल मीडिया प्रोफाइल की पहचान की है. ये फर्जी नामों के जरिए जवानों को फंसाने के लिए ट्रैप बिछाने के संदिग्ध हैं. सैन्यकर्मियों को ट्रैप में फंसाने के लिए अपनाए जाने वाले हालिया तरीकों और ट्रेंड्स पर सेना ने एक फाइल तैयार की है. सेना से जुड़े एक सूत्र ने इस फाइल के हवाले से बताया, ‘ताजा इनपुट्स दिखाते हैं कि पाकिस्तान खुफिया अधिकारी सोशल मीडिया पर आध्यात्मिक गुरुओं की पहचान का इस्तेमाल कर रहे हैं. वो टारगेट पर लिए गए सैनिकों और उनके परिवार के सदस्यों से संवेदनशील जानकारी हासिल करने के लिए उनका विश्वास जीतने की कोशिश कर सकते हैं.’

पाकिस्तानी खुफिया अधिकारियों के निशाने पर ऐसे सैनिक या अधिकारी हो सकते हैं जिनके पास सेना के मूवमेंट की जानकारी रहती है. या फिर वो ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों का स्टाफ और यहां तक कि पूर्व सैनिक भी हो सकते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 9:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर