Exclusive: राज्यसभा से दिनेश त्रिवेदी के इस्तीफे पर बोले TMC सांसद सौगत रॉय, वो ग्रास रूट के नेता नहीं हैं

तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद और प्रवक्ता सौगत रॉय की फाइल फोटो.

तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद और प्रवक्ता सौगत रॉय की फाइल फोटो.

Dinesh trivedi resignation from parliament: सौगत रॉय ने कहा, 'दिनेश त्रिवेदी के जाने से पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ता है.' रॉय ने कहा, 'दिनेश त्रिवेदी कोई ग्रास रूट के नेता नहीं है. वह लोकसभा चुनाव में हार गए थे दीदी ने उन्हें राज्यसभा सांसद बनाया.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2021, 4:44 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली/कोलकाता. पश्चिम बंगाल में जैसे-जैसे विधानसभा (West Bengal Assembly Elections 2021) चुनाव नजदीक आ रहे हैं, तृणमूल कांग्रेस को झटका लगता जा रहा है. शुक्रवार को टीएमसी के दिग्गज नेता दिनेश त्रिवेदी ने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने कहा कि मेरे राज्य में हिंसा हो रही है, इससे मुझे घुटन हो रही है. दिनेश त्रिवेदी ने अपने इस्तीफे का ऐलान राज्यसभा में अपनी स्पीच के दौरान किया. दिनेश त्रिवेदी (Dinesh Trivedi) के इस्तीफे के बाद न्यूज18 इंडिया ने तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद और प्रवक्ता सौगत रॉय (Saugat roy) से बातचीत की.

सौगत रॉय ने कहा, 'दिनेश त्रिवेदी के जाने से पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ता है.' रॉय ने कहा, 'दिनेश त्रिवेदी कोई ग्रास रूट के नेता नहीं है. वह लोकसभा के चुनाव में हार गए थे. दीदी ने उन्हें राज्यसभा सांसद बनाया. हमें इंडिकेशन भी नहीं मिला, कई लोगों से वह मिल रहे थे. लगाता है शरद पवार से भी मिले. मगर वो ऐसा करेंगे यह मालूम नहीं था. अभी तो उन्होंने राज्यसभा से अनाउंस किया है. हम उनकी जगह ग्रास रूट वर्कर को भेजेंगे. दिनेश त्रिवेदी का कोई वोटर नहीं है.'

Youtube Video

तृणमूल कांग्रेस ही जीतेगी विधानसभा चुनाव
खास बातचीत में सौगत रॉय ने एक बार फिर विधानसभा चुनावों में जीत का दावा किया. दिनेश त्रिवेदी द्वारा हिंसा का आरोप लगाए जाने के सवाल पर रॉय ने कहा, 'ये उनका मत है, हम इससे सहमत नहीं हैं. वो किसके दवाब में आकर ये बात कर रहे हैं ये हमें नहीं पता है. मेरे साथ उन्होंने 5 दिन पहले ही यात्रा की थी. तब उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं बोला.'

सुखेंदु एस रॉय बोले-तृणमूल का मतलब है जमीनी स्तर पर

त्रिवेदी के इस्तीफे पर टीएमसी सांसद सुखेंदु एस रॉय ने कहा कि 'तृणमूल' का मतलब है जमीनी स्तर पर. इससे हमें राज्यसभा में जल्द ही 'जमीनी स्तर' के कार्यकर्ता को भेजने का मौका मिलेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज