होम /न्यूज /राष्ट्र /बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए कैसे करें बड़ी बचत? इन 4 तरीकों से कुछ वर्षों में बचाए जा सकते हैं लाखों रुपये

बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए कैसे करें बड़ी बचत? इन 4 तरीकों से कुछ वर्षों में बचाए जा सकते हैं लाखों रुपये

मौजूदा समय में पढ़ाई का वार्षिक खर्च 10 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रहा है.

मौजूदा समय में पढ़ाई का वार्षिक खर्च 10 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रहा है.

Child Education Planning: बढ़ती महंगाई के बीच बच्चों की पढ़ाई के लिए बचत करना सभी पैरेंट्स के लिए बेहद जरूरी हो गया है. ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

गोल बेस्ड इन्वेस्टमेंट के माध्यम से बेहतर रिटर्न के लिए इक्विटी मार्केट में निवेश करें
जिंदगी की अलग-अलग जरूरतों के लिए इन्वेस्टमेंट के विभिन्न तरीके अपनाएं
बच्चों और परिवार की सुरक्षा के लिए टर्म और हेल्थ इंश्योरेंस की सुरक्षा बेहद जरूरी

नई दिल्ली: बच्चों की बेहतर शिक्षा और सुनहरा करियर हर मां-बाप का सबसे बड़ा सपना होता है. लेकिन इस बढ़ती महंगाई में पढ़ाई का खर्च दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है. ऐसे में पैरेंट्स के लिए एजुकेशन के लिए बचत करना बेहद जरूरी हो गया है. मौजूदा समय में पढ़ाई का वार्षिक खर्च 10 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रहा है. जबकि महंगाई की दर 6.71 प्रतिशत है. ऐसे में माता-पिता अपने बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए बचत कैसे कर सकते हैं?

मान लीजिये आकृति और अयान एक 8 वर्षीय बच्चे के पैरेंट्स हैं और उनका बेटा फ्यूचर में मेडिकल की पढ़ाई करना चाहता है और इसके लिए दोनों पति-पत्नी अपने बच्चे के इस सपने को पूरा करने के लिए बचत करने की कोशिश कर रहे हैं. चूंकि मेडिकल की पढ़ाई के लिए कॉम्पिटिशन एग्जाम की तैयारी करनी होती है और इसके लिए कोचिंग क्लासेज की फीस महंगी होती है. इसलिए आकृति और अयान को इन बड़े खर्चों को ध्यान में रखते हुए बचत करनी होगी.

ये भी पढ़ें: बच्‍चों को टॉपर बनाने में न करें ये गलतियां, उनको करने दें इसका चुनाव

लक्ष्य-आधारित निवेश
गोल बेस्ड इन्वेस्टिंग निवेश और बचत का एक ऐसा तरीका है जिसकी मदद से बड़े लक्ष्यों को हासिल किया जा सकता है. इसके लिए अपनी सुविधानुसार इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो को बनाना होता है. निवेश की इस रणनीति के माध्यम से 8-10 साल में 80-85 लाख रुपए बचाए जा सकते हैं और उन्हें इक्विटी में इन्वेस्ट किया जा सकता है. लंबी अवधि में इक्विटी मार्केट से सालाना 11 से 12 फीसदी के रिटर्न की उम्मीद की जाती है. इसके अलावा इक्विटी बढ़ती महंगाई से निपटने के लिए निवेश का एक अच्छा माध्यम है.

बढ़ती महंगी और पढ़ाई
बच्चों के करियर की प्लानिंग करने वाले पैरेंट्स को एजुकेशन से जुड़ी महंगाई को भी ध्यान में रखना होता है. क्योंकि पढ़ाई का खर्च हर साल बढ़ रहा है. मान लीजिये फिलहाल प्राइवेट कॉलेज में एमबीबीएस की पढ़ाई का कुल खर्च 30 लाख रुपए है और एजुकेशन का खर्च हर साल 10 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रहा है इसलिए 10 साल बाद यही फीस 80 लाख रुपए होगी. इसलिए माता-पिता को इस महंगाई को ध्यान में रखते हुए बचत करनी चाहिए.

विभिन्न लक्ष्यों के लिए अलग-अलग निवेश
आकृति और अयान ने मिलकर अपने रिटायरमेंट के लिए डेढ़ करोड़ रुपये बचाने का लक्ष्य रखा है. यह उनके बेटे के भविष्य के लिए बचत के अलावा है. दोनों की उम्र 40 साल है और 60 साल की आयु में रिटायर होना चाहते हैं. रिटायरमेंट से पहले उन्हें अपने बेटे की पढ़ाई के लिए पैसों की जरूरत होगी. इसलिए इस दंपति को अपनी विभिन्न जरुरतों के लिए अलग-अलग पोर्टफोलियो में इन्वेस्ट करना चाहिए.

यह भी पढ़ें: बच्चों के लिए इंश्योरेंस प्लान लेते समय कुछ अहम बातों को न भूलें, एक्सपर्टस से समझिए कौन सा प्लान खरीदें

इसके लिए आकृति और अयान स्टॉक, ईटीएफ, म्यूचल फंड में एकमुश्त और मंथली एसआईपी बनाकर इन्वेस्ट कर सकते हैं. फिक्सड इनकम के तौर पर एनपीएस, पीपीएफ और पीएफ में निवेश करें. इसके अलावा वैकल्पिक निवेश माध्यम जैसे गोल्ड बॉन्ड. गोल्ड ईटीएफ और इंटरनेशनल म्यूचल फंड्स में इन्वेस्ट किया जा सकता है. इन अलग-अलग निवेश माध्यमों के जरिए जिंदगी के विभिन्न लक्ष्यों के बचत की जा सकती है.

इंश्योरेंस की सुरक्षा से खुद को करें सिक्योर
जीवन में हमेशा अनिश्चितता बनी रहती है इसलिए पति-पत्नी दोनों को टर्म इंश्योरेंस लेना चाहिए. क्योंकि किसी भी दुर्भाग्यपूर्ण परिस्थिति में आपके ना रहने पर भी बच्चों और परिवार की जरूरतों को पूरा किया जा सके. टर्म इंश्योरेंस हमेशा अपनी आय से 7 या 10 गुना तक लेना चाहिए. इसकी मदद से होम लोन जैसा कर्ज और बच्चे के भविष्य को सुरक्षित किया जा सकता है.

आकृति और अयान जैसे माता-पिता को अपने बच्चों के भविष्य के सालों पहले प्लानिंग करनी होगी. इसके लिए उन्हें अपने फाइनेंशियल गोल निर्धारित करने चाहिए और अगर जरूरी हो तो इसके लिए किसी निवेश सलाहकार की मदद लेनी चाहिए. ताकि परिवार और बच्चों के सपनों को पूरा किया जा सके.

Tags: Gold investment, Investment and return

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें