जल्द ही अधिकतर बैंकों को मिलेगी राहत, SBI चेयरमैन ने FICCI सम्मेलन में कही ये बात

जल्द ही अधिकतर बैंकों को मिलेगी राहत, SBI चेयरमैन ने FICCI सम्मेलन में कही ये बात
रजनीश कुमार (SBI चेयरमैन)

FICCI के 92वें सालाना सम्मेलन में SBI चेयरमैन रजनीश कुमार (Rajnish Kumar) ने बैंकों से जुड़े कई सवालों का जवाब दिया.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के चेयरमैन रजनीश कुमार (Rajnish Kumar) ने शनिवार को कहा कि गैर-निष्पादित संपत्ति (NPA) के मामले में अधिकतर बैंक मार्च तक अच्छी स्थिति में होंगे और बैंकिंग प्रणाली में ऋण वितरण के लिये नकदी की कोई कमी नहीं है.

31 मार्च तक अधिकतर बैंक की अच्छी स्थिति होगी
उन्होंने FICCI के 92वें सालाना सम्मेलन में कहा कि बुनियादी संरचना तथा उपभोक्ता क्षेत्र में ऋण की मांग में कोई खास कमी नहीं आयी है, अत: इन क्षेत्रों में ऋण वितरण के अवसर उपलब्ध हैं. उन्होंने कहा, "31 मार्च तक अधिकांश बैंक एनपीए के लिहाज से अच्छी स्थिति में होंगे."

ये भी पढ़ें: 'एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड' पर सरकार ने दिया बड़ा बयान, आम लोगों को मिली बड़ी राहत!



रेपो रेट में कटौती पर भी दिया जवाब


रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) द्वारा रेपो दर (Repo Rate) घटाने का लाभ उपभोक्ताओं तक नहीं पहुंच पाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि बैंक संपत्ति और देनदारी में असंतुलन बनने के जोखिम को देखते हुए ब्याज दर में एक सीमा से अधिक कटौती नहीं कर सकते हैं.

कुमार ने कहा कि बैंकिंग प्रणाली में पूंजी की कोई कमी नहीं है. उन्होंने कहा कि कॉरपोरेट पर्याप्त ऋण नहीं ले रहे हैं और अपनी क्षमता का अच्छे से उपयोग नहीं कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी ने अगर मान ली पूर्व आर्थिक सलाहकार की बात तो हर महीने आपके बैंक खाते में आएंगे पैसे!

स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए कर्ज देना असुरक्षित
दूरसंचार कंपनियों (Telecom Companies) को स्पेक्ट्रम की प्रस्तावित नीलामी के लिये ऋण देने के बारे में उन्होंने कहा, "हमारे लिये दूरसंचार कंपनियों को स्पेक्ट्रम नीलामी के लिये ऋण देना पूरी तरह से असुरक्षित है. यह कागजों पर सुरक्षित है क्योंकि नीलामी सरकार करने वाली है, लेकिन व्यावहारिक तौर पर यह पूरी तरह से असुरक्षित है."

उन्होंने कहा, "अत: ऐसी परिस्थितियों में बैंकों को दूरसंचार क्षेत्र को ऋण देने से पहले सावधानी से मूल्यांकन करना होगा, क्योंकि ऋण की किस्तों के भुगतान में चूक होने की आशंका काफी अधिक है."

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार ने 1 लाख से ज्यादा किसानों से PM-किसान स्कीम पैसा वापस लिया, सबसे पहले यूपी के किसानों का नंबर
First published: December 21, 2019, 4:26 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading