लाइव टीवी

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका, कहा- किसी कागज़ पर लिख देने से विदेशी नहीं हो जाते राहुल गांधी

News18Hindi
Updated: May 9, 2019, 1:04 PM IST

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को सुप्रीम कोर्ट से नागरिकता वाले मामले में बड़ी रहत देते हुए कहा कि किसी एक कागज़ पर लिख देने से वो विदेशी नहीं हो जाएंगे.

  • Share this:
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है. सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी की नागरिकता के मामले में दायर याचिका को खारिज कर दिया है. कोर्ट स्पष्ट कहा कि किसी एक कागज़ पर  लिखा होने से राहुल गांधी को विदेशी नहीं माना जा सकता. बता दें कि गृह मंत्रालय ने भी राहुल से उनकी नागरिकता के सवाल पर नोटिस देकर स्प.ष्टीकरण मांगा है

ये भी पढ़ें: नर्स ने कहा- मैं राहुल के जन्म की गवाह, नागरिकता पर नहीं उठना चाहिए सवाल

कोर्ट ने क्या कहा?
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता को राहुल गांधी की नागरिकता के बारे में पता कब चला. साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा कि सिर्फ इसलिए कि कोई व्यक्ति एक कागज ब्रिटिश के रूप में अपनी नागरिकता नोट करता है, इसका मतलब यह नहीं कि वह ब्रिटिश नागरिक बन जाता है. याचिकाकर्ता ने कहा कि राहुल गांधी देश के प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कौन देश का प्रधानमंत्री नहीं बनना चाहता है. देश के 130 करोड़ लोगों में हर कोई प्रधानमंत्री बनना चाहता है.



गृह मंत्रालय ने भी भेजा नोटिस


राहुल गांधी की भारतीय नागरिकता पर सवाल उठने के बाद गृह मंत्रालय ने बीते मंगलवार को नोटिस भेजकर स्पष्टीकरण मांगा था. इससे पहले बीजेपी नेता सुब्रमण्यन स्वामी ने सोमवार को राहुल की नागरिकता और शैक्षणिक योग्यता पर सवाल उठाते हुए गृह मंत्रालय को चिट्ठी भेजी थी, जिसके बाद गृह मंत्रालय ने राहुल गांधी को नोटिस जारी किया था. मंत्रालय ने नोटिस में राहुल गांधी से इस मामले में तथ्य पेश करने के लिए कहा है. राहुल को इस नोटिस का 15 दिन के भीतर जवाब देना है. इस नोटिस के बाद कांग्रेस ने मामले से जुड़े कुछ कागजात सोशल मीडिया पर जारी किए थे.



राजनाथ ने क्या कहा था?
राहुल गांधी को नोटिस देने के मामले से जुड़े एक सवाल के जवाब में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि जब एक सांसद किसी मसले पर मिनिस्ट्री को चिट्ठी लिखता है या सवाल करता है तो ऐसे में उसका संधान करता पड़ता है. ये कोई गंभीर बात नहीं है एक सामान्य प्रक्रिया है.

क्या है आरोप?
स्वामी का दावा है कि साल 2003 में ब्रिटेन में बैकऑप्स नाम की एक कंपनी का रजिस्ट्रेशन हुआ था. इस कंपनी के निदेशक कथित तौर पर राहुल गांधी है और इसका रजिस्टर्ड पता 51 साउथगेट स्ट्रीट, विंचेस्टर, हैंपशायर SO23 9EH है. इसी कंपनी ने साल 2006 में जो रिटर्न फ़ाइल किया है उसमें राहुल को ब्रिटिश नागरिक बताया है. कंपनी बंद करने के लिए जो एप्लीकेशन दी गई थी उसमें भी राहुल को ब्रिटिश नागरिक बताया गया है.

यह भी पढ़ें:  राहुल ने अमेठी के नाम लिखी चिट्ठी, कहा- देश को एक करने में जुटा हूं, वोट देकर मजबूत कीजिए

गृह मंत्रालय ने इसी शिकायत पर संज्ञान लेते हुए नोटिस जारी किया है. बीजेपी नेता स्वामी ने गृह मंत्रालय को राहुल की नागरिकता के खिलाफ दो बार पत्र लिख चुके हैं. 21 सितंबर 2017 के बाद स्वामी ने 29 अप्रैल 2019 को भी पत्र लिखकर गृह मंत्रालय से इस मामले में जांच की मांग की थी.

जन्म के वक़्त मौजूद नर्स भी सामने आई
रिटायर्ड नर्स और केरल स्थित वायनाड से वोटर राजम्मा वावथिल ने कहा कि किसी को भी कांग्रेस अध्यक्ष की नागरिकता पर सवाल नहीं उठाना चाहिए. राजम्मा ने दावा किया कि वह दिल्ली के उस फैमिली अस्पताल में 1 जून 1970 के दिन ड्यूटी पर थीं जब राहुल गांधी का जन्म हुआ. राजम्मा के मुताबिक, जब राहुल का जन्म हुआ, तब वह नर्स की ट्रेनिंग ले रही थीं. उन्होंने कहा कि वह उन लोगों में शामिल थीं, जिन्होंने राहुल को गोद में उठाया था.

यह भी पढ़ें:  SSC EXAM 2018: जीडी कांस्टेबल परीक्षा आंसर की हुई जारी, ssc.nic.in पर चेक करें

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 9, 2019, 11:48 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading