• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • आधार, पैन, वोटर आईडी से नहीं जोड़े जाएंगे सोशल मीडिया अकाउंट, SC ने खारिज की याचिका

आधार, पैन, वोटर आईडी से नहीं जोड़े जाएंगे सोशल मीडिया अकाउंट, SC ने खारिज की याचिका

सीबीएसई की दसवीं और बारहवीं की बची हुई परीक्षाएं एक जुलाई से 15 जुलाई तक कराने का फैसला लिया गया है.

सीबीएसई की दसवीं और बारहवीं की बची हुई परीक्षाएं एक जुलाई से 15 जुलाई तक कराने का फैसला लिया गया है.

दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi Highcourt) ने सोशल मीडिया पर फर्जी अकाउंट (Social Media Fake Account) का सफाया करने करने के लिये आधार (Aadhar), पैन (PAN), वोटर आईडी कार्ड (Voter ID) को सोशल मीडिया अकाउंट से जोड़े जाने का आदेश देने से इनकार कर दिया था, जिसे सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में चुनौती दी गई थी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi Highcourt) के उस आदेश को चुनौती देने वाली एक याचिका पर विचार करने से मंगलवार को इनकार कर दिया, जिसमें उसने सोशल मीडिया अकाउंट (Social Media Accounts) को आधार (Aadhar), पैन (PAN) या मतदाता पहचान पत्र (Voter ID) कार्ड से जोड़ने का निर्देश देने का अनुरोध खारिज कर दिया गया था.

    सोशल मीडिया पर फर्जी अकाउंट का सफाया करने के लिये यह निर्देश देने का उच्च न्यायालय से अनुरोध किया गया था. हालांकि, न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव की पीठ ने याचिकाकर्ता, वकील एवं भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय को शीर्ष न्यायालय में केंद्र द्वारा दायर की गई (मामलों के) स्थानांतरण याचिका में खुद को पक्षकार बनाने की अनुमति दे दी.

    विशेष अनुमति याचिका की गई खारिज
    वकील ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिये दलील दी कि केंद्र ने इससे पहले इस तरह के मामलों को कुछ उच्च न्यायालयों से शीर्ष न्यायालय स्थानांतरित करने की मांग की थी. पीठ ने कहा, ‘‘हम उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देने वाले आदेश में हस्तक्षेप करने का कोई कारण नहीं देखते हैं. इस तरह, विशेष अनुमति याचिका खारिज की जाती है. हालांकि, याचिकाकर्ता (उपाध्याय) को स्थानांतरण मामले में पक्षकार बनाये जाने की अर्जी दायर करने की छूट दी जाती है.’’

    पीठ के सदस्यों में न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी और न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट्ट भी शामिल हैं.

    दिल्ली हाईकोर्ट ने आदेश देने से किया था इनकार
    उल्लेखनीय है कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने (सोशल मीडिया पर) फर्जी अकाउंट का सफाया करने करने के लिये आधार, पैन (आयकर विभाग द्वारा जारी स्थायी खाता संख्या), वोटर आईडी कार्ड को सोशल मीडिया अकाउंट से जोड़े जाने का आदेश देने से इनकार कर दिया था. अदालत ने कहा था कि इससे वास्तविक अकाउंट वाले लोगों (जो संख्या में अधिक हैं) के डेटा अनावश्यक रूप से विदेश चले जाएंगे.

    उपाध्याय ने अपनी याचिका में कहा था कि सोशल मीडिया पर 20 प्रतिशत अकाउंट फर्जी या नकली हैं. उन्होंने याचिका में यह आरोप भी लगाया था कि फर्जी सोशल मीडिया अकाउंट का इस्तेमाल चुनाव के दौरान फर्जी एवं पेड न्यूज का प्रसार करने के लिये किया जाता है.

    ये भी पढ़ें-
    सुप्रीम कोर्ट ने कहा- मजदूरों के इंतजाम में खामियां, केंद्र-राज्य दें जवाब

    SC ने Moratorium के दौरान लोन ब्याज माफी की याचिका पर RBI को थमाया नोटिस

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज