कर्नाटक हाईकोर्ट के आदेश में दखल नहीं देगा सुप्रीम कोर्ट, केंद्र को सप्लाई करनी होगी 1200 MT ऑक्सीजन

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र की दलील को मानने से इनकार कर दिया है. (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र की दलील को मानने से इनकार कर दिया है. (फाइल फोटो)

Oxygen Shortage in India: केंद्र सरकार को उच्च न्यायालय की तरफ से राज्य के लिए ऑक्सीजन आवंटन (Oxygen Allotment) को बढ़ाने के आदेश दिए गए थे. कर्नाटक हाईकोर्ट ने ऑक्सीजन सप्लाई को बढ़ाकर 1200 मीट्रिक टन करने का आदेश दिया था.

  • Share this:

नई दिल्ली. कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) पहुंची केंद्र सरकार (Central Government) को निराशा का सामना करना पड़ा है. सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया है. केंद्र ने सर्वोच्च न्यायालय से अपील की थी कि उच्च न्यायालय के राज्य के लिए ऑक्सीजन आवंटन बढ़ाने के आदेश पर रोक लगाई जाए. सुप्रीम कोर्ट ने मामले में शुक्रवार को अपना फैसला सुनाया.

भाषा के अनुसार, मुख्य न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एम आर शाह की पीठ ने कहा कि पांच मई का उच्च न्यायालय का आदेश जांचा-परखा और शक्ति का विवेकपूर्ण प्रयोग करते हुए दिया गया है. शीर्ष अदालत ने केंद्र की उस दलील को स्वीकार करने से इनकार कर दिया कि अगर प्रत्येक उच्च न्यायालय ऑक्सीजन आवंटन करने के लिए आदेश पारित करने लगा तो इससे देश के आपूर्ति नेटवर्क के लिए परेशानी खड़ी हो जाएगी.

कर्नाटक में भी दिल्‍ली जैसे हालात, बढ़ रहे कोरोना मामलों के बीच गहराया ऑक्‍सीजन संकट

केंद्र सरकार को उच्च न्यायालय की तरफ से राज्य के लिए ऑक्सीजन आवंटन को बढ़ाने के आदेश दिए गए थे. कर्नाटक हाईकोर्ट ने ऑक्सीजन सप्लाई को बढ़ाकर 1200 मीट्रिक टन करने का आदेश दिया था. इसके खिलाफ केंद्र सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. केंद्र की तरफ से दलील दी गई थी कि अगर प्रत्येक उच्च न्यायालय ऑक्सीजन आवंटन करने के लिए आदेश पारित करने लगा तो इससे देश के आपूर्ति नेटवर्क के लिए परेशानी खड़ी हो जाएगी.


केंद्र की तरफ से अदालत पहुंचे सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि कर्नाटक को 965 मीट्रिक ऑक्सीजन सप्लाई की जा रही है. इस आदेश का 'कोई औचित्य' नहीं था. केंद्र ने कहा 'अगर हर हाईकोर्ट आदेश जारी करने लगा तो काम नहीं चल पाएगा.' हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र की दलील को मानने से इनकार कर दिया है. मेहता ने कहा था कि केंद्र कर्नाटक के साथ बैठकर मुद्दा सुलझाने के लिए तैयार है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज