सुप्रीम कोर्ट ने UAPA में बदलाव की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर केंद्र से मांगा जवाब

News18Hindi
Updated: September 6, 2019, 1:39 PM IST
सुप्रीम कोर्ट ने UAPA में बदलाव की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर केंद्र से मांगा जवाब
सुप्रीम कोर्ट ने यूएपीए में संशोधनों की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर केंद्र से मांगा जवाब.

गुरुवार को अमेरिका (America) ने कहा था कि वो मौलाना मसूद अजहर, हाफिज सईद, जकी-उर-रहमान लखवी और दाउद इब्राहिम को आतंकियों के रूप में नामित करने के लिए नए आतंकवाद विरोधी कानून का इस्तेमाल करने के मामले में भारत (India) के साथ खड़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 6, 2019, 1:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने शुक्रवार को गैरकानूनी गतिविधियों (रोकथाम) अधिनियम (Unlawful Activities Prevention Act) में संशोधन को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर केंद्र की प्रतिक्रिया मांगी है. याचिकाओं विभिन्न आधारों पर इस अधिनियम में बदलाव को चुनौती देती हैं, जिनमें नागरिकों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन और नागरिकों को आतंकवादी घोषित करने के लिए सशक्त एजेंसियां ​​शामिल हैं.

चीफ जस्टिस (CJI) रंजन गोगोई और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने सजल अवस्थी और एक गैर सरकारी संगठन एसोसिएशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ सिविल राइट्स (APCR) द्वारा दायर याचिकाओं पर केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है. ये नोटिस जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर, लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक हाफिज मुहम्मद सईद, मुंबई आतंकवादी हमले के आरोपी जकी-उर-रहमान-लखवी और भगोड़े गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम आतंकवादियों के नाम को आतंकवाद विरोधी कानून में शामिल करने के दो दिन बाद आया है.

गृह मंत्रालय का बयान

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि संसद द्वारा गैरकानूनी गतिविधियों (रोकथाम) संशोधन अधिनियम, 1967 में एक महत्वपूर्ण संशोधन को मंजूरी दिए जाने के लगभग एक महीने बाद ये फैसले लिए गए. ये नए कानून के तहत आतंकवादी घोषित होने वाले पहले दर्जे के नाम हैं. गुरुवार को अमेरिका ने कहा था कि वो चार आतंकवादियों के रूप में नामित करने के लिए नए आतंकवाद विरोधी कानून का इस्तेमाल करने के मामले में भारत के साथ खड़ा है.

अमेरिका ने किया भारत का समर्थन

अमेरिकी सरकार के ब्यूरो ऑफ साउथ एंड सेंट्रल एशियन अफेयर्स ने ट्वीट किया, "हम भारत के साथ खड़े हैं और 4 कुख्यात आतंकवादियों को नामित करने के लिए नए कानूनी अधिकारियों का उपयोग करने के लिए इसकी सराहना करते हैं: मौलाना मसूद अजहर, हाफिज सईद, जकी-उर-रहमान लखवी और दाउद इब्राहिम. ये नया कानून संयुक्त रूप से भारत और अमेरिका के आतंक विरोधी प्रयासों को मजबूत करेगा."

इसे भी पढ़ें :-
Loading...

जेल में सामान्य कैदी की तरह रहेंगे चिदंबरम, मिलेंगी सिर्फ ये दो सुविधाएं
चिदंबरम के जेल जाने पर अभिषेक मनु सिंघवी बोले- विपक्षी नेताओं को बनाया जा रहा निशाना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 1:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...