नुसरत जहां बोलीं- बीजेपी नेताओं का बयान डरावना, बंगाल को दीदी ही बचाएंगी

तृणमूल कांग्रेस की सांसद नुसरत जहां. (पीटीआई फाइल फोटो)

तृणमूल कांग्रेस की सांसद नुसरत जहां. (पीटीआई फाइल फोटो)

West Bengal Assembly Election 2021: नुसरत ने न्यूज18 से कहा कि विधानसभा चुनाव की लड़ाई दरअसल बंगाल को बचाने की लड़ाई है, ऐसे में ये महत्वपूर्ण हो जाता है कि लोग ममता बनर्जी को वोट दें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 4:57 PM IST
  • Share this:
(अमन शर्मा, बशीरहाट से)

नई दिल्ली. बशीरहाट की गलियों में पीले रंग का दुपट्टा डाले टीएमसी सांसद और पॉपुलर फिल्म स्टार नसुरत जहां (Nusrat Jahan) जब चुनाव प्रचार के लिए खुली जीप में सवार हुई तो हजारों लोगों की निगाह उन्हीं पर टिक गई. बशीरहाट नुसरत का संसदीय क्षेत्र है, जहां कि सात विधानसभा सीटों पर शनिवार को राज्य चुनावों में मतदान होना है. विधानसभा चुनाव में टीएमसी के बैकफुट पर होने और बीजेपी के 200 सीटें जीतने के दावे पर नुसरत जहां ने कहा, "मेरा मानना है कि बंगाल के लोग भावनाओं से जुड़े होते हैं, और दीदी बंगाल के लोगों से बेहद दिल से जुड़ी हुई है, तो चाहे कुछ भी कह लीजिए. कोई भी परिस्थिति हो या भविष्य में जो कुछ भी घटता है. बंगाल के लोग सिर्फ एक ही चेहरे को चाहते हैं और वो हैं हमारी नेता ममता बनर्जी.'

नुसरत ने आगे कहा- 'मैं सभी पार्टियों और नेताओं को शुभकामनाएं देती हूं, लेकिन बंगाल के लोग टीएमसी के लिए दहाड़े मार रहे हैं. उनका प्यार, उत्साह हमेशा पार्टी के साथ रहा है और उन्होंने पिछले 10 सालों से पार्टी के लिए अपना पसीना बहाया है और यहां पर सिर्फ दीदी ने उनके लिए काम किया है और किसी पार्टी ने नहीं.'

Youtube Video

न्यूज18 के साथ बातचीत करते हुए नुसरत जहां ने सीतलकूची गोलीबारी को लेकर चुनाव आयोग और बीजेपी पर सवाल खड़ा करते हुए कहा, "मैंने विपक्ष के नेताओं को यह कहते हुए सुना कि जो सीतलकुची में हुआ, वह दोबारा से हो सकता है. यह अपमान हैं और बंगाल के लोगों के बारे में सोचकर डर लगता है कि ऐसे नेता उनके आसपास हैं. एक जनप्रतिनिधि को इस तरह बात नहीं करनी चाहिए." उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग इस बारे निष्पक्ष नहीं रहा. टीएमसी सांसद बोलीं, "ये बेहद शर्म की बात है कि बीजेपी नेताओं के बयान पर चुनाव आयोग संज्ञान भी नहीं लेता है, लेकिन अगर जनता के साथ कहीं कुछ गलत होता है, लोग मारे जाते हैं, और हमारी नेता, जनता की रहनुमा बनकर बोलती हैं, तो उनकी बात सुनी नहीं जाती हैं और फिर उन पर बैन भी लगा दिया जाता है. एक लोकतंत्र के रूप में हम कहां जा रहे हैं.''

बीजेपी, टीएमसी पर मुस्लिम तुष्टीकरण करने का आरोप लगाती हैं और इस चुनाव में यह भी मुद्दा है कि बंगाली महिलाओं का झुकाव बीजेपी की ओर चला गया है. इस सवाल पर नुसरत जहां ने कहा, "मैं खुद एक महिला हूं और मैं ये जोर देकर कह रही हूं कि दीदी के पास बंगाल की महिलाओं का पूरा समर्थन है. बंगाल की हर लैंगिक पहचान दीदी के साथ है." हालांकि टीएमसी सांसद ने पार्टी पर लग रहे तुष्टिकरण के आरोपों पर कोई जवाब नहीं दिया. उन्होंने कहा कि हम सिर्फ लोगों के बेहतर काम करने पर अपना फोकस कर रहे हैं, ना कि किसी धर्म और तुष्टीकरण के बारे में सोच रहे हैं. सवाल ये है कि लोग क्या चाहते हैं और बंगाल के लोग अपनी बेटी ममता बनर्जी को चाहते हैं. नुसरत ने न्यूज18 से कहा कि विधानसभा चुनाव की लड़ाई दरअसल बंगाल को बचाने की लड़ाई है, ऐसे में ये महत्वपूर्ण हो जाता है कि लोग ममता बनर्जी को वोट दें.

बशीरहाट के मुद्दे



बशीरहाट की सात विधानसभा सीटों पर मुस्लिम मतदाताओं का बाहुल्य है. हरोआ और बदुरिया में तो मुस्लिम मतदाता 70 प्रतिशत और 65 प्रतिशत की संख्या में हैं, जबकि बशीरहाट उत्तर सीट पर इनकी आबादी 50 प्रतिशत में है. गायों की तस्करी, गौ हत्या और घुसपैठ की समस्या बशीरहाट में मुख्य मुद्दे हैं. ये इलाका बांग्लादेश की सीमा से सटा हुआ है और बीजेपी लगाता इन मुद्दों को उठाकर इलाके में अपनी पैठ बनाने में जुटी है. न्यूज18 ने मौके पर यह भी देखा कि पशुओं को बांधकर जुगाड़ गाड़ी में भरकर विधानसभा क्षेत्र में एक जगह से दूसरे जगह ले जाया जा रहा था, इस पर बीजेपी ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से कोई चेकिंग नहीं है और ये सत्तारूढ़ प्रशासन से जुड़ा फैक्ट है.

2016 के विधानसभा चुनाव में टीएमसी ने सात में से 6 सीटों पर जीत हासिल की थी, 2019 के लोकसभा चुनाव में नुसरत जहां ने 3.5 लाख वोटों के अंतर से बशीरहाट लोकसभा सीट पर फतह हासिल की थी और सभी विधानसभा सीटों पर उन्हें बढ़त थी. हालांकि पश्चिम बंगाल बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि 2021 की परिस्थितियां भिन्न हैं, इस बार लेफ्ट-कांग्रेस और आईएसएफ का गठबंधन भी मैदान में है, जिसकी वजह से मुस्लिम वोट बंटेगा और हिंदू वोटों के एकजुट होने से पार्टी को फायदा मिलेगा.



बशीरहाट में प्रचार करते हुए नुसरत जहां टीएमसी के स्थानीय उम्मीदवार के मुकाबले ममता बनर्जी के चेहरे पर वोट मांग रही हैं, न्यूज18 से उन्होंने कहा, "बशीरहाट में बहुत काम हुआ है, लेकिन इस बार का मुद्दा सिर्फ बशीरहाट का नहीं है, बल्कि उससे बड़ा है. बंगाल के लिए ममता बनर्जी ही उम्मीदवार हैं."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज