Assembly Banner 2021

लॉकडाउन की आर्थिक तंगी के चलते स्कूल का डांस टीचर बना नामी ड्रग्स सप्लायर

गांजे की 91 किलो की इतनी बड़ी कन्साइनमेंट कहां डिलिवर की जानी थी इसका अबतक पता चल नहीं पाया है.

गांजे की 91 किलो की इतनी बड़ी कन्साइनमेंट कहां डिलिवर की जानी थी इसका अबतक पता चल नहीं पाया है.

Maharashtra News: बेलतरोड़ी पुलिस स्टेशन के पुलिस ऑफिसर विजय आकोत के मुताबिक पुलिस ने इस डांस टीचर को उस वक्त धरदबोचा जब 91 किलो गांजे की कन्साइनमेंट को अपनी कार में सीट के नीचे कैविटी बनाकर शिवशंकर इसम्पलली आंध्र प्रदेश से दिल्ली पहुंचने के लिए नागपुर के अंदर के बायपास रोड आए गुजर रहा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2021, 8:05 PM IST
  • Share this:
नागपुर. नागपुर पुलिस (Nagpur) ने एक ऐसे ड्रग्स सप्लायर को पकड़ा है जो पेशे से है तो डांस टीचर, लेकिन कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) में गई नौकरी के बाद एक ऐसे ड्रग्स सप्लायर के तौर पर उभरा जो आंध्रप्रदेश से लेकर दिल्ली, मुम्बई राजस्थान तक में ड्रग्स के कारोबार का अहम किरदार बन चुका था. नागपुर पुलिस ने लंबी तलाश के बाद आखिरकार उसे उस वक्त धरदबोचा जब वो गांजे की एक बड़ी खेप आंध्र प्रदेश से दिल्ली डिलीवर करने के लिए एक सीक्रेट रूट पर निकला हुआ था.

शिवशंकर इसम्पलली जो पेशे से स्कूल का ये डांस टीचर और ड्रग्स सिंडिकेट का एक ऐसा नामी सप्लायर जो देशभर में ड्रग्स की सप्लाई का एक बड़ा नाम बन चुका था. बेलतरोड़ी पुलिस स्टेशन के पुलिस ऑफिसर विजय आकोत के मुताबिक-- शिवशंकर इसम्पलली असल मे हैदराबाद में एक नामी स्कूल में स्कूल डांस टीचर था लेकिन पिछले साल मार्च 2020 से जब लॉकडाउन शुरू हुए तो कुछ महीनों में ही उसके कॉन्ट्रैक्ट को स्कूल ने टर्मिनेट कर दिया. अन्य स्कूलों ने भी लॉकडाउन में उसे नौकरी नहीं दी जिसके बाद शिवशंकर आर्थिक तंगी से गुजरने लगा था.

ये भी पढ़ें- वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किया साफ, सभी सरकारी बैंकों का नहीं किया जाएगा निजीकरण



पुलिस रिकॉर्ड न होने पर पकड़ पाना भी था मुश्किल
यूट्यूब पर उसके कुछ मराठी एल्बम भी मौजूद है लेकिन उसके सुपर डांसर बनने का सपना और एलबम बनाने की ख्वाहिश अधूरी ही रह गई थी. जिसके बाद उसने अपनी आर्थिक स्थिति को सम्भालने के लिए ड्रग्स तस्करों का साथ पकड़ा और ड्रग्स की सप्लाई के धंधे में घुस गया. कोई पुलिस रिकॉर्ड न होने के चलते उसे पकड़ पाना भी मुश्किल था और इसी का फायदा उठाकर वो आंध्रप्रदेश से उन रूट्स पर भी सप्लाई करने लगा था जिनपर पुलिस की कड़ी निगरानी होती है. कुछ ही महीनों में वो पैसे कमाने भी लगा था और ड्रग्स के कारोबार का बड़ा सप्लायर भी बन गया था.

बेलतरोड़ी पुलिस स्टेशन के पुलिस ऑफिसर विजय आकोत के मुताबिक पुलिस ने इस डांस टीचर को उस वक्त धरदबोचा जब 91 किलो गांजे की कन्साइनमेंट को अपनी कार में सीट के नीचे कैविटी बनाकर शिवशंकर इसम्पलली आंध्र प्रदेश से दिल्ली पहुंचने के लिए नागपुर के अंदर के बायपास रोड आए गुजर रहा था.

ये भी पढ़ें- कोरोना की चपेट में आए पंजाब के पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल

पुलिस को इसकी जानकारी पहले से मिल चुकी थी कि शिवशंकर इसम्पलली इस बार दिल्ली के रूट पर है और वर्धा रोड से गुजरनेवाला है जिसके बिना पर पुलिस ने ट्रैप बिछाया और लम्बे समय से जिस शिवशंकर इसम्पलली की उन्हें तलाश थी वो उनके हाथ पड़ गया.

गांजे की 91 किलो की इतनी बड़ी कन्साइनमेंट कहां डिलिवर की जानी थी इसका अबतक पता चल नहीं पाया है. पुलिस हिरासत में मौजूद शिवशंकर इसम्पलली के मुताबिक उसे दिल्ली पहुंचने के बाद डिलीवरी पर्सन की जानकारी मिलनेवाली थी. फिलहाल इस डांस टीचर को 14 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है. शिवशंकर ने इस दौरान पुलिस से कहा कि वो मजबूरी में इस धंधे में पड़ा क्योंकि लॉकडाउन में अपनी आर्थिक स्थिति संभाल सके और उसने जो किया अपने बिगड़े हालातों की वजह से किया, उसने तय किया था जब वापस स्कूल खुलेंगे तो वो इस धंधे को छोड़ देगा औऱ वापस स्कूल में डांस टीचर बनकर काम करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज