जम्मू क्षेत्र में आज से आंशिक रूप से खुलेंगे स्कूल, जानें से पहले पढ़िए गाइडलाइन

केंद्र सरकार ने 21 सितंबर से स्कूल खोले जाने के लिए दिशानिर्देश जारी किए थे.
केंद्र सरकार ने 21 सितंबर से स्कूल खोले जाने के लिए दिशानिर्देश जारी किए थे.

Schools to be partially opened in Jammu region: जम्मू संभाग की स्कूल शिक्षा निदेशक अनुराधा गुप्ता ने बताया कि छात्रों की सुरक्षा के लिये सभी आवश्यक इंतजाम किए गए हैं. उन्होंने हालांकि, यह भी कहा कि छात्रों की उपस्थिति स्वैच्छिक होगी और वह अपने माता-पिता की सहमति से स्कूल आयेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 5:53 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) के जम्मू क्षेत्र में सभी सरकारी एवं निजी स्कूल (School Open) छह महीने बाद सोमवार को आंशिक रूप से खुलेंगे. कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के कारण स्कूल लंबे समय से बंद थे. जम्मू संभाग की स्कूल शिक्षा निदेशक अनुराधा गुप्ता ने बताया कि छात्रों की सुरक्षा के लिये सभी आवश्यक इंतजाम किए गए हैं.

उन्होंने हालांकि, यह भी कहा कि छात्रों की उपस्थिति स्वैच्छिक होगी और वह अपने माता-पिता की सहमति से स्कूल आयेंगे. अनुराधा ने बताया, 'हमलोग आंशिक रूप से स्कूलों को खोल रहे हैं. निषिद्ध क्षेत्र के बाहर के स्कूल खोले जायेंगे. ये स्कूल नौवीं कक्षा से 12 कक्षा के छात्रों के लिये सरकार के दिशा निर्देशों के साथ सोमवार से खुलेंगे.'

ऑनलाइन कक्षाएं और डिजिटल एजुकेशन जारी
अधिकारी ने आगे कहा, 'कक्षा 8वीं तक के 50 फीसदी कर्मचारी हर दिन स्कूल आएंगे, जबकि कक्षा 9वीं से 12वीं तक के 50 फीसदी छात्र स्वैच्छा से उपस्थित हो सकते हैं. यह अभिभावकों को तय करना है कि वे अपने बच्चों को स्कूल जाने की अनुमति देते हैं या नहीं. इसके अलावा ऑनलाइन कक्षाएं और डिजिटल एजुकेशन जारी रहेगी.'
मार्च से प्रदेश के स्कूल हैं बंद


गौरतलब है कि कोविड -19 महामारी के कारण प्रदेश में मार्च से स्कूल बंद हैं. वहीं पिछले साल 5 अगस्त को धारा 370 और 35ए को समाप्त करने के बाद भी स्कूलों को बंद रखा गया था.

गोवा में 2 अक्टूबर के बाद स्कूल खोलने का फैसला
दूसरी ओर गोवा में फिर से खुलने वाले स्कूलों पर निर्णय परामर्श के बाद 2 अक्टूबर को लिया जाएगा. यह तय करना अभिभावकों पर है कि वे अपने बच्चों को स्कूल जाने की अनुमति दें या नहीं. ऑनलाइन कक्षाएं और डिजिटल शिक्षा के अन्य पहलुओं पर काम जारी रहेगा. छात्रों की उपस्थिति उनके माता-पिता से लिखित सहमति के साथ होगी. अधिकारियों के अनुसार, सभी एसओपी का पालन तब किया जाएगा जब स्कूल इतने लंबे अंतराल के बाद फिर से खुलेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज