कोरोना वायरस की रोकथाम में बड़ी सफलता! वैज्ञानिकों ने खोजा लगाम लगाने का तरीका

कोरोना को लेकर वैज्ञानिकों ने पाई अहम सफलता.
कोरोना को लेकर वैज्ञानिकों ने पाई अहम सफलता.

शोधकर्ताओं ने दो अणुओं का पता लगाया है जो सार्स-कोव-2-पीएलप्रो (SARS-COV-2-PLPro) नामक कोरोना वायरस (Coronavirus) द्वारा उपयोग किए जाने वाले अणु संबंधी 'सीजर' एंजाइम को रोकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2020, 1:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) को रोकने और इसे खत्‍म करने के लिए दुनियाभर में शोध हो रहे हैं. इस दौरान वैक्‍सीन (Coronavirus Vaccine) भी विकसित करने का प्रयास हो रहा है. इस बीच अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक ऐसे प्रोटीन को रोकने की तकनीक विकसित की है, जिसका इस्तेमाल कोरोना वायरस इम्‍यून सिस्‍टम के महत्वपूर्ण तत्‍वों को निष्क्रिय करने के लिए करता है. इस खोज से कोविड-19 के इलाज के लिए नई दवा बनाने में मदद मिल सकती है.

अमेरिका के सैन एंटोनियो में टेक्सास स्वास्थ्य विज्ञान केंद्र विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं सहित विभिन्न शोधकर्ताओं ने दो अणुओं का पता लगाया है जो सार्स-कोव-2-पीएलप्रो (SARS-COV-2-PLPro) नामक कोरोना वायरस द्वारा उपयोग किए जाने वाले अणु संबंधी 'सीजर' एंजाइम को रोकते हैं.

'साइंस' पत्रिका में प्रकाशित शोध में कहा गया है कि सार्स-सीओवी-2-पीएलप्रो वायरल और मानव प्रोटीन दोनों को संवेदित और संसाधित करके संक्रमण को बढ़ावा देता है. यूटी हेल्थ सैन एंटोनियो में जैव रसायन और संरचनात्मक जीव विज्ञान के सहायक प्रोफेसर तथा वरिष्ठ शोध लेखक शॉन के ऑल्सन ने कहा, 'यह इंजाइम दोहरा रूप धारण कर लेता है.'




ओल्सन ने कहा, 'यह प्रोटीन को निकलने के लिए प्रोत्साहित करता है जो वायरस के दोहरा रूप धारण करने लिए आवश्यक है, और यह साइटोकिन्स और केमोकिंस नामक अणुओं को भी रोकता है जो संक्रमण पर हमला करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को संकेत देते हैं.' वैज्ञानिकों ने ऐसे अवरोधकों का पता लगाया है जो सार्स-सीओवी-2-पीएलप्रो की गतिविधि को अवरुद्ध करने में बहुत कुशल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज