SCO मीटिंग: एक साथ आए भारत-पाकिस्तान के NSA, आतंकवाद के खिलाफ किया सहयोग का वादा

इस दौरान डोभाल और यूसुफ के बीच अलग से कोई मुलाकात नहीं हुई. (फोटो: ANI/Twitter)

SCO Meeting: आठ देशों की चर्चा के दौरान विश्वसनीय सूचना सुरक्षा सुनिश्चित करने, साइबर अपराध (Cyber Crime) के खिलाफ संयुक्त लड़ाई और कोरोना वायरस के संदर्भ में बायोलॉजिकिल सिक्युरिटी और फूड सिक्युरिटी को लेकर बात हुई.

  • Share this:
    नई दिल्ली. ताजिकिस्तान (Tajikistan) के दुशान्बे में आयोजित शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गेनाइजेशन (Shanghai Cooperation Organisation) की बैठक में भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (Ajit Doval) भी शामिल हुए. इस दौरान पाकिस्तान के समकक्ष मोईद यूसुफ भी मौजूद रहे. हालांकि, दोनों के बीच कोई विशेष मुलाकात की खबर नहीं है. इस दौरान एससीओ के आठ सदस्य देशों के एनएसए ने भी कार्यक्रम में हिस्सा लिया.

    बुधवार को ताजिकिस्तान की तरफ से जारी किए गए बयान के अनुसार, इस दौरान सभी एनएसए ने 'अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद', 'चरमपंथ', 'अलगाववाद' और 'धार्मिक कट्टरपंथ' के खिलाफ लड़ाई में सहयोग देने पर सहमति जताई. तजिक भाषा में जारी बयान में बताया गया है कि इस बैठक के दौरान सबसे ज्यादा ध्यान 'अफगानिस्तान में मौजूदा राजनीतिक और सैन्य स्थिति' और इसके 'बढ़ने' के जोखिम पर दिया गया.

    बैठक में और खास क्या
    आठ देशों की चर्चा के दौरान विश्वसनीय सूचना सुरक्षा सुनिश्चित करने, साइबर अपराध के खिलाफ संयुक्त लड़ाई और कोरोना वायरस के संदर्भ में बायोलॉजिकिल सिक्योरिटी और फूड सिक्योरिटी को लेकर बात हुई. मीटिंग में एससीओ के क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी ढांचे पर भी विशेष ध्यान दिया गया. खबर है कि डोभाल ने इस दौरान एक ज्वाइंट प्रोटोकॉल पर भी हस्ताक्षर किए हैं.

    यह भी पढ़ें: आज कश्मीरी पार्टियों संग PM मोदी की अहम बैठक, क्या फिर मिलेगा राज्य का दर्जा?



    भारत-पाक के लिए खास मानी जा रही बैठक
    हालांकि, इस दौरान डोभाल और यूसुफ के बीच अलग से कोई मुलाकात नहीं हुई, लेकिन अफगानिस्तान के हालात और भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव के बीच इस बैठक को काफी अहम माना जा रहा है. सीमा पर दोनों देशों के बीच बीते चार महीनों में कुछ तनातनी कम हुई है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, डोभाल और उनके रूसी समकक्ष के बीच बैठक दो घंटे से ज्यादा समय तक चली.

    और कौन रहे शामिल
    डोभाल के अलावा इस बैठक में कजाकिस्तान के असत इस्सेकेशेव, किर्गिज गणतंत्र के मरात इमानकुलोव, रूस के निकोलाई पैत्रुशैव, ताजिकिस्तान के नसरुल्लो महमूदजोदा, उज्बेकिस्तान के बाबरग उस्मानोव और रीजन एंटी-टेरेरिस्ट स्ट्रक्चर (RATS) के निदेशक जुमाखोन गियोसोव मौजूद रहे. मेजबान देश की तरफ से जारी किए गए बयान के मुताबिक, इस दौरान चीन का कोई प्रतिनिधि मौजूद नहीं रहा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.